'पब्लिक प्लेटफ़ॉर्म'

by Focus24 team

समय तू बहुत बलवान है, तू किसी का इन्तजार नहीं करता | तू बस चलता रहता है , तू किसी को सलाम नहीं करता | कोई दे गाली तुझको , मगर तू किसी को बर्बाद Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। सीधी सी बात चीन सुपर पावर बनने के चक्कर मे सबको अपने यहां के रिपोर्ट को दिखा रहा है की हमारे यहाँ भी लोग इंफेक्टेड है और उसने लॉक डाउन करके इन सब को सही कर लिया , लॉक डाउन करवाने का उसका विचार सभी देशों की अर्थव्यवस्था को समाप्त करना का है बेसिक सी बात है जब कोई देश  वायरस को पूरी दुनिया मे एक नियोजित Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Shikha singh

फीचर्स डेस्क। कोरोना के कारण छुट्टियां हो गई हैं एक हफ्ते की ,क्यों नहीं तुम लोग घर हो आओ इसी बहाने.... कब ऐसे मौके मिलते हैं कि तुम्हारी और बच्चों की छुट्टियां एकसाथ हों। संदीप ने मुस्कुराते हुये कहा। पदमा ने भी सोचा ..यहां तो वैसे भी कोई दिक्कत नहीं है। खाने वाली है ,कामवाली है , कपड़े संदीप मैनेज कर ही लेंगें । उसने अ Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Shikha singh

फीचर्स डेस्क। आस्तीन के सांप ये शब्द बहुत सुना होगा आपने फिल्मों में या कहानियों में। मगर इसका असली मतलब आज मैं बताती हूँ की वो कैसे आप लोग के आस्तीन में रहते है और सही वक़्त आते ही डस लेते है। चलो बात करते है आस्तीन के सांपो की साइकोलॉजी की – ये सांप दिखने में आप हम जैसे ही होते हैं लेकिन उनका व्यवहार काफी अलग होत Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

जब भी हम साथ बैठेंगे तुम अपनी कहना हम अपनी कहेंगे तुम बताना की चाँद तुम्हे क्या समझाता था हम बताएंगे रात का अंधेरा हमें कैसे डराता था तुम बताना हमसे दूर गुज़रे पलो के किस्से हम दिखाएंगे तन्हाई में मिले ज़ख्मो के हिस्से Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by manish shukla

नये साल के इंतजार में दिल्ली की आबोहवा बदलने का क्रम उन दिनों शुरू हो गया था। लोग नये साल की तैयारी में प्लानिंग कर रहे थे और आधी रात तक जगने वाली दिल्ली में रातें और बडी होने लगी थी। सर्द हवाओं का झोंका इन दिनों हांड मांस कंपाने को तैयार था और उपर से कोहरे की धुंध ने ठंड को किसी खूंखार जानवार सरीखा बना दिया था जो अपने बीच आने वाली हर चीजों को निगल जाता था। यह 2012 Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh