'पब्लिक प्लेटफ़ॉर्म'

by Vineet dubey

मैं धरा पे इस पार प्रिये तुम गगन के उस पार मैं विहरिणी प्रेम राग थाम जीवन रही गुजार। तू हमको देख, हमारी नजर से देखो तो ज़रा दिल की रानी हूँ नहीं मैं इन्द्रलोक की अप्सरा मन अब भी स्वर सुनता है दिल वश में कहाँ मन-वीणा झंकृत हुई तू अनुस्वरा तू व्यंजना तुम विश्वामित्र बन जाओ और मैं तेरी मेनक Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

इस बार कुंदन वापस आएगा तो सिर्फ अपनी बिंदिया और मुरारी के लिए , आज ये कुंदन अपनी बिंदिया से कुछ कहना चाहता है सुनो ना बिंदिया  तुम्हें मेरा लिख दु तुम क्या हो पर कैसे लिख दु सवाल यह है.... ईश्वर ही नहीं लिख पाया तुम्हें मेरा तो मैं तो यारा उसके हाथों Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by manish shukla

मेरी प्रिय कवयित्रीयों में से एक रूपम मिश्र जी ने लिखा है, "बेटों की चाह में अनचाहे उग आती हैं बेटियाँ..." क्या सचमुच? शहरों के झूठ से पीछा छुड़ा कर गाँव को निहारने पर दिखता है, इस प्रश्न के उत्तर में 'हाँ' का प्रतिशत 'नहीं' से बहुत अधिक है। पर तनिक सोचिये न! बेटियाँ न हों तो जीवन में क्या बचेगा? ब Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। देश के इतिहास में सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस अपना 135 वा स्थापना दिवस मना रही हैं ।कांग्रेस का इतिहास देश के  आजादी के इतिहास के साथ जुड़ा हुआ है। इसका गठन साल 28 दिसम्बर 1885 को बॉम्बे के गोकुलदास तेजपाल संस्कृत महाविद्यालय में हुई थी जिसका श्रेय एलन ऑक्टेवियन ह्यूम को जाता है।  वो अंग्रजी शासन Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क।  भारतीय समाज में वैदिक काल में  नारी का स्थान बहुत सम्मानजनक था औरअखंड भारत में   विदुषी नारियों के लिए जाना जाता था ।कालांतर में नारी की स्थिति में ह्रास हुआ है ।मध्यकाल आते-आते यह ह्रास अपने   चरमोत्कर्ष  पर पहुंच गया। जिस समाज में नारी का स्थान सम्मानजनक होता है, वह सम Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। एक प्रश्न मेरा है क्या जनसंख्या वृद्धि और सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के मध्य कार्य कारण संबंध हैं ? केवल सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के कारण ही मृत्यु दर में कमी हो यह आवश्यक नहीं है। शिशुओं और बच्चों की मृत्यु दर पर चिकित्सकों और स्वास्थ्य सुविधाओं के सामान्य पोषण स्तर की संख्या ब Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh