'पब्लिक प्लेटफ़ॉर्म'

by Asha Ranjan

फीचर्स डेस्क। यह घटना मेरे बचपन के दिनों की है। मैं गर्मियों की छुट्टियों में सपरिवार अपनी नानी के यहाँ गाँव गयी थी। खूब मस्ती में दिन बीत रहे थे । मेरे सबसे छोटे मामा , जो उन दिनों जबलपुर मेडिकल काॅलेज से डाॅक्टरी की पढ़ाई कर रहे थे , वह भी कुछ दिनों की छुट्टी लेकर गाँव आए हुए थे। मैं अपने तीनों छोटे भाइयों के साथ उनको Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Asha Ranjan

फीचर्स डेस्क। अमावस्या की काली रात में, मैं अपने पति के साथ देहरादून से हरिद्वार अपनी कार से लौट रही थी। बीच रास्ते में, सुनसान जगह पर अचानक हमारी कार का टायर पंचर हो गया। मेरे पति कार का टायर बदलने लगे। मैं चहल कदमी कर रही थी। अचानक, मैंने देखा कि एक भूत भयंकर आवाज निकाल कर, तेजी से हमारी ओर बढ़ रहा था। मैं बहुत डर गई Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Asha Ranjan

फीचर्स डेस्क। बात उस समय  की  है  जब  मै गांव  गयी सबने बताया था ये  रास्ते  में  पेड़  है इसकी  कहानी है  कि  एक किसान शादी के  बाद  अपनी  पत्नी  को लेकर  वहां  रुका  लघुशंका  के  लिए  वहां उसको  सांप  Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। बेटा बहु शादी के छह महीने बाद घर आये दस पन्द्रह दिनों के लिए। उसी समय बहु की सास ने बेटी को भी बुलवा लिया ताकि सभी संग रह सके। जिस दिन सभी आये उस दिन तो घर खुशियों से गूंज रहा है। अगले दिन सासु जी ने बच्चों से लिस्ट मांगी तो उनके बेटे ,बेटी ने तुरन्त एक पल की देरी के डके दी। बहु को समझ न आया कि यह कैस Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Priyanka Shukla

मुझ पर तेरा विश्वास जो है , मेरे लिए जिनेबकी वजह है। तू माने या न माने हकीकत है, तेरा विश्वास मुझे देता होंसला है। जानते हो तुम या हो अनजान , तुम्हारी कसम ,झूठ नहीं बात यह , एक तेरा विश्वास ही तो है मेरे लिए, मेरे तेरे रिश्ते की संजीवनी ।। रखना मुझ पर ऐसे ही एतबार तुम, वादा रह Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Pratima Jaiswal

फीचर्स डेस्क। हाईकोर्ट के सीनियर जज मिश्रा जी लॉन में बैठे मस्ती से चाय पी रहे थे और अपना पसंदीदा गाना गुनगुना रहे थे...बड़ी मुश्किल से तो इतवार आता है... पर तभी रीता जी  टपक गई,"आज साहब की अदालत में एक पारिवारिक केस की सुनवाई होनी है।" पहले तो वो चौंके... फिर अपनी मैडम को देख कर मुस्कुराए,"ठीक है भई, Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh