'फोकस स्पेशल स्टोरी'

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। प्रत्येक स्वतंत्र राष्ट्र का अपना एक ध्वज होता है जो उस देश के स्वतंत्र देश होने का संकेत होता है। भारतीय राष्ट्रीय ध्वज को हम भारतवासी ' तिरंगा" के नाम से जानते हैं। 66"ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड "ने ध्वज निर्माण के लिए मानक सेट किया था। उन्होंने उसके निर्माण से जुडी हर छोटी-बड़ी बात जैस Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क।  वैसे तो मैंने कभी आजतक तुम्हें पाती नहीं लिखी...क्योंकि तुम बहुत छोटे हो मुझसे,बस सदा स्नेह ही भेजा। आशा करती हूँ तुम सकुशल से होगे। शायद खत को पढकर तुम आश्चर्यचकित जरूर हो जाओ... आज के जमाने में खत लिखता कौन है। सच भी है। जबसे ये फोन आया है। लोगों खत लिखने की प्रक्रिया को भूल ही गए। आज बरस Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Shikha singh

प्रिय अनुज , शत शत् आर्शीवाद फीचर्स डेस्क।  टेक्नोलॉजी के दौर में चिट्ठी । यही सोच रहे हो न अनुज,,, "अब कोई चिट्ठियां नहीं लिखता , हरकारे नहीं आते । बाबुल Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Shikha singh

फीचर्स डेस्क। कैसे हो!...  शैतानियाँ कुछ कम हुई कि अभी भी अनवरत रूप से सबको सताना जारी है.... वैसे तुमसे रोज़ फोन पर बात होती है... विडियो कॉल की सुविधा के चलते हमें एक दूसरे के बारे में सब मालूमात हासिल रहते है!.... किन्तु जैसा हर साल की Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Shikha singh

प्रभु जी,  क्षमा मांगते हुए आपसे विनती करती हूँ, कृपा कर मेरी सहायता करें। प्रभु जी, आज स्वप्न में मेरे पापा आये थे,वह आपके पास बहुत खुश हैं, लेकिन"कोरोना" के कारण वह हमारे लिए बहुत चिंतित थे। मैं कुछ बातें कर पाती इससे पहले ही मेरी नींद खुल गई। कृपा कर आप उन तक हमारा संदेश पहुँचा दी Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Shikha singh

पिता के कई नाम है कई रूप है, पिता सृजनकर्ता है जो एक परिवार बनाता है। पिता सूर्य है जिसके प्रकाश से पूरा परिवार चमकता है। पिता छायादार वृक्ष है जिसकी शीतल छाया में सब आनंदित रहते हैं। पिता वह Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh