'फोकस स्पेशल स्टोरी'

by अमरीश मनीष शुक्ला 

नई दिल्ली। भारत समेत पूरी दुनिया की मीडिया में इस समय एक ही नाम गूंज रहा है तबलीगी जमात और मरकज । यह दोनों शब्द क्या है? इनके माइने क्या हैं ? यह क्या करते हैं और इनका मकशद क्या है ? यही सवाल इस समय सबके जेहन में है। क्योंकि पूरी दुनिया में कोरोना की दहशत, पाबंदियों और दिल्ली में धारा 144 लगने के बावजूद भी इस कार्यक्रम Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by अमरीश मनीष शुक्ला 

टीवी स्क्रीन पर प्रधानमंत्री के आठ बजे का टेलीकास्ट जैसे ही खत्म हुआ काजल की सांसे तेज हो गयी। घबराहट के चलते उसके दिमाग में सिर्फ इतना ही आया था कि अब क्या होगा? अचानक उसके पेट में दर्द होने लगा। माथे से पसीना और सूखते गले के बीच रौंधे गले से वह फुसफंसायी मां ? अगले क्षण दौडती हुई मां आई, क्या हुआ काजल ? म Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। विश्व अंतर्राष्ट्रीय दिवस 8 मार्च को पूरी दुनिया में मनाया जाता है। यह महिलाओं के लिए अब एक उत्स व के रूप में बदल गया है। इस मौके पर कई तरह के आयोजन किए जाते हैं, लेकिन इसकी शुरुआत और इतिहास को लेकर भी कई दिलचस्पह पहलू हैं। आज हम आपको बताएंगे कि आखिर महिलाओं से जुडे इस उत्सवव की शुरुआत कब हुई और क्याक है इ Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। अगर भगवान आम महिला होते तो सोचिए क्या करते ? जब भी ऐसा सोचती हूं तो लगता है वो भी अपने अस्तित्व के लिए हर पल लड़ते । क्या एक महिला के कर्म ईश्वर से कम होते हैं ? जरा सोचिए !  नहीं _हर महिला अपने आप में ईश्वर का रूप होती है जो हर दायित्व निभाती है बिना कोई भी शिका Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Shikha singh

फीचर्स डेस्क। सुनो ना, आज कुछ कहना है तुमसे, बहुत दिनों से सोच रही हूँ कि दिल की हर बात कह दूँ। पर जाने क्या सोचकर रूक जाती हूँ। अच्छा एक बात तो बोलो जरा,  क्या तुम्हें हमारी पहली मुलाकात याद है। मैं तो कभी भी नहीं भूल सकती वो दिन कितना डरावना था ना सबकुछ, मैं बस स्टैंड पर खड़ी किसी सवारी का इंतजार कर रही थी। Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by अमरीश मनीष शुक्ला 

अमरीष मनीष शुक्ला  प्रयागराज  : हिंदुस्तान के इतिहास में आज का दिन स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज है। यह दिन उस वीर क्रांतिकारी के जीवन का आखिरी दिन था जिसके नाम से अंग्रेजी हुकूमत के अधिकारी कांप जाया करते थे। हालांकि बहुत ही कम लोग जानते होंगे क Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh