'कहानी'

by Priyanka Shukla

फीचर्स डेस्क। घर जाने के लिए निकला। अशांत और विचलित मन लिए सब्जी मंडी पहुँचा कुछ सब्जियाँ खरीदीं। आज कुछ देर हो गई थी तो घर पहुँचकर खिचड़ी अथवा मैगी बना लेने का विचार चल रहा था। पिछले सप्ताह के एक भी कपड़े धुले नहीं थे अतः 5-6 दिन से एक ही जीन्स को रगड़ रहा था। एक हाथ से काँधे पर लटके बैग को सम्हालता और दूसरे हाथ में दूध क Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Shivangi Agarwal

फीचर्स डेस्क। नाम नहीं लिखूंगा क्योंकि मैंने कभी तुमको तुम्हारे नाम से पुकारा ही नहीं। कुछ नाम दे रखे थे तुमको उन्ही से काम चल जाता था। जिस उम्र में लड़के ये सोचते हैं कि PCM लूँ या PCB या कॉमर्स अच्छी रहेगी , उस वक़्त मैं ये सोच रहा था कि तुम्हें गली के नुक्कड़ पर रोकूँ या स्कूल के गेट पर।  Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। अमिता ऑफिस से आधे दिन की छुट्टी लेकर डॉक्टर के पास गई थी। उसके सिर और पैरों में बहुत दर्द रहने लगा था, पैरों में सूजन भी थी। डॉक्टर ने कहा तनाव और काम की अधिकता के कारण नसें कमजोर हो गई है। पैंतीस साल की उम्र में वह इतनी थकान और कमजोरी महसूस करने लगी थी‌। डॉक्टर के यहां भीड़ थी,घर पहुंच ने में आठ बज ग Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Shivangi Agarwal

फीचर्स डेस्क। ये कहानी है एक ऐसे क्रन्तिकारी की जिसे अपने देश से सच्चा इश्क़ था। "गुमनाम क्रांतिकारी" हाँ,यही नाम तो दिया था लोगों ने उसे। अंग्रेजों के खिलाफ लड़ना और देश को आजाद करवाना यही मकसद था उसके जीवन का। याद है उसे जब उसने चन्द्रशेखर आजाद का साथ देने की बात की थी तो कैसे पिता ने धमकाया था क्योंकि वो अंग्रे Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Priyanka Shukla

फीचर्स डेस्क। अमर सुनो बेटा तुम्‍हें बहु सीमा को लेकर जाना है अमेरिका तो जाओ बेटा मैं रोकूँगी नहीं पर हां तेरे बाबुजी की तबियत नासाज रहने लगी है और रिटायरमेंट भी नजदीक ही है, "तब तक बीच-बीच में मिलने आ जाया करना बेटा" । हां मां वर्ष में एक बार ही तो अवकाश मिलता है हमें, तो हम जरूर आएंगे । क्‍या करें मा Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क । "मुबारक हो आप फिर से माँ बनने वाली है" , रिपोर्ट देख डाक्टर ने जब ये कहा तो चेहरे पर खुशी के बजाय उदासी छा गयी नीलू के ! डबडबाई आँखों को छुपाती बिना कुछ कहे केबिन से निकल कार में जाकर बैठ गई ! राजीव भी सारी औपचारिकताओं को पूरा कर कार में आ गया । नीलू की उदासी की वजह वो जानता था ! इसलिए चुपचाप कार ड्राइव करने लगा ! सन्न Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh