'विशेष पर्व'

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। कोरोना वायरस के चलते नवरात्र पर आपको विशेष सावधानी ऱखनी होगी। देवी शास्त्र में एकांत पूजा को सर्वश्रेष्ठ माना गया है। वो भी रात्रिकालीन पूजा को। देवी भगवती की आराधना में पहलेदिन यानी शैलपुत्री दिवस ( प्रथम नवरात्र) को वातावरण की शुद्धि के लिए आप कुछ उपाय कर सकते हैं। जैसे तुलसी का पौधा लगा सकते हैं। यह शैल Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Priyanka Shukla

फीचर्स डेस्क। इस साल चैत्र नवरात्र 25 मार्च से शुरू हो रहा है। देखा जाए तो चैत्र नवरात्र 10 दिन का समय शेष है। ऐसे में मां के दरबार में हाजिरी लगाने के लिए कई भक्त तो घरों से निकल भी पड़े हैं, जबकि अधिकांश भक्त बसौड़ा पूजन के बाद घरों से निकलेंगे। भक्त 230 किमी. की पदयात्रा सात से आठ दिन में पूरी करेंगे।  Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Pratima Jaiswal

फीचर्स डेस्क।  फेस्टिवल ऑफ कलर्स यानी होली। रंग-तरंग और उमंग का पर्व। होली खेलना तो सभी को अच्छा लगता है। लेकिन होली खेलने के बाद रंगों को छुड़ाने का दौर काफी मुश्किलों भरा रहता है। इस डर से बहुत से लोग तो होली खेलते ही नहीं हैं। लेकिन थोड़ी सी सावधानी से सेहत को बनाए रखते हुए भी होली खेली जा सकती है। हमने यहां रंग Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। उत्तर प्रदेश में कान्हा नगरी मथुरा के फालैन गांव की होली भगवान विष्णु के प्रति प्रहलाद की अटूट भक्ति का हर साल गवाह बनती है जब धधकती होलिका के बीच पंडा निकलता है।मथुरा से लगभग 55 और कोसी से लगभग 10 किमी दूर इस गांव की होली ब्रज की होलियों में निराली इसलिए होती है कि यहां पर धधकती होली के बीच से होली पर पंड Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

मथुरा। लठमार होली खेलने के लिए नंदगांव से बुधवार को हुरियारे राधारानी के गांव बरसाना पहुंचे। यहां पहले से ही हाथों में प्रेमपगी लाठियां लिए सजी-धजी हुरियारिनें ने रंगीली गली में उनके साथ जमकर होली खेली। लठमार होली को देखने के लिए हजारों श्रद्धालु बरसाना आए हैं। रंगीली गली में अबीर गुलाल के साथ प्रेमरंग बरस रहा है। Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Priyanka Shukla

फीचर्स डेस्क। होली का फेस्टवेल गले मिलने सारी दुश्मनी, नाराजगी और पुरानी बातो को भूल जानें के नाम से जाना जाता है। इसलिए इसको रंगों का त्यौहार कहा जाता है क्योकि होली में न जाति का भेद होता है और न धर्म का। पूरे एक साल में जो नाराजगी अनबन हुई रहती है लोग होली पर आपस में गले मिलकर दूर करते हैं। वहीँ हिन् Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh