छठ स्पेशल : ... तो इसलिए छठी मैय्या को है गन्ना पसंद, बिना इसके पूजा अधूरी

Slider 1
« »
30th October, 2019, Edited by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। छठ पर्व इस सप्ताह में मनाया जाएगा। इस साल छठ कल यानी 31 अक्‍टूबर से शुरू होकर 2 नवंबर तक चलेगा। ऐसे में इस फेस्टिवल को पूरे बिहार सहित झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में बड़े ही हर्षों उल्‍लास के साथ मनाया जाएगा। आपको बता दें कि छठ शब्द षष्ठी से बना है, जिसका अर्थ होता है छह, इसलिए यह पर्व चंद्रमा के आरोही चरण के छठे दिन, यानि कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष पर मनाया जाता है। कार्तिक महीने की चतुर्थी से शुरू होकर यह सप्तमी तक यानि चार दिनों तक चलता है। मुख्य पूजा कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष के यानि छठे दिन होती है।

चार दिनों तक चलता है ये फेस्टिवल

ये पर्व पूरे चार दिनों तक चलता है और इस दौरान काफी नियमों का पालन किया जाता है। इस दौरान कई तरह के पकवान बनाए जाते है और कई तरह के फल सूर्य देव को अर्पण किए जाते है। लेकिन क्‍या आपको पता है की इसके प्रसाद में चढ़ने वाले ठेकुआ और फलों पीछे भी तर्क है। तो आइए जानें क्‍या है इनके कारण।

केले का खास महत्व

छठी की पूजा में प्रसाद में केले का पूरा गुच्छ चढ़ाया जाता है। छठ में केले का भी खास महत्व है। यही वजह है कि प्रसाद के रूप में इसे बांटा और ग्रहण किया जाता है। इसके पीछे तर्क यह है कि छठ पर्व बच्चों के लिए किया जाता है और सर्दियों के मौसम में बच्चों में गैस की समस्या हो जाती हैं। ऐसे में उन्हें इस समस्‍या से बचाने के लिए प्रसाद में केले को शामिल किया जाता है।

गन्ना बिना पूजा अधूरी

छठी की पूजा में प्रसाद में गन्ना भी चढ़ाया जाता। अर्घ्य देते समय पूजा की सामग्री में गन्ने का होना जरूर होता है। ऐसा माना जाता है कि छठी मैय्या को गन्ना बहुत प्रिय है। इसके बिना पूजा अधूरी मानी जाती है। बताया जाता है कि सूर्य की कृपा से ही फसल उत्पन्न होती है और इसलिए छठ में सूर्य को सबसे पहले नई फसल का प्रसाद चढ़ाया जाता है। गन्ना उस नई फसल में से एक है। छठ के सूप में नारियल जरूर होता है और इसके पीछे तर्क य‍ह है कि मौसम में बदलाव के कारण होने वाले सर्दी जुकाम की समस्या से नारियल हमें बचाने में मदद करता है। इसके अलावा नारियल कई तरह के अहम पौष्टिक तत्व मौजूद हैं, जो इम्यून सिस्टम को बेहतर रखने में मदद करते हैं और यही वजह है की इसे प्रसाद में शामिल किया जाता है।

एक विशेष प्रकार का नींबू

छठी में प्रसाद में डाभ नींबू जो कि एक विशेष प्रकार का नींबू है चढ़ाया जाता है। ये दिखने में बड़ा और बाहर से पीला और अंदर से लाल होता है। आपको बता दें डाभ नींबू हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है और ये हमें कई रोगों से दूर रखता है। डाभ नींबू हमें बदलते मौसम में बीमारियों से लड़ने के लिए तैयार करता है।

इनपुट सोर्स : महिमा मिश्रा, पटना, बिहार।