World No Tobacco Day: होली ब्लासम स्कूल के स्टूडेंट्स पोस्टर के जरिए लोगों को किया जागरूक  

Slider 1
Slider 1
Slider 1
Slider 1
Slider 1
Slider 1
« »
1st June, 2020, Edited by Focus24 team

झज्जर हरियाणा। हम उस समाज के अंग हैं जहां हमारे आस-पास मौत का व्यापार बहुत शांति से और निर्विघ्नता से चलता है। हर नुक्कड़ पर या हर मार्केट में एक छोटी सी पान की दुकान मिल ही जाती है, जिसमें विभिन्न ब्रांड के तम्बाकू, सिगरेट और बीड़ी करीने से सजाण् जाते हैं और ये मौत का सामान स्वछंदता से बेचा जाता है। ये छोटी-छोटी पान की दुकान में बैठे हुए दुकानदारों की रोजी-रोटी की विवशता कही जा सकती है पर क्या हम आंखें फेर सकते हैं व्यापार की उन बड़ी दुकानों से भी जो पूरे विश्व की युवा पीढ़ी को बहका कर इन मौत के उत्पादों का शिकार बना रहे हैं? तम्बाकू इसके सेवन करने वालों के पचास प्रतिशत को बड़े आराम से मार डालता है। तम्बाकू सेवन न करने को लेकर हर साल जागरूकता अभियान चलाया जाता है। इसी क्रम में रविवार को "द होली ब्लासम स्कूल", झज्जर, हरियाणा के स्टूडेंट्स ने पोस्टर बनाकर लोगो को तंबाकू से होने वाले नुकसान के बारे बताया और इस सेवन न करने को कहा। इस अभियान में शामिल मानवी, तेजस, अभि, पौरव, पीयूष, वृद्धि, कशिश, हार्दिक, हिमकेश, आइशा, प्रियाशी, यस, मान्या, प्रियांशी, देवेश और दिशू ने पोस्टर बनाकर समाज के लोगो को तंबाकू से होने वाले नुकसान के बारे मे बताते हुए जागरूक किया।

क्या कहते हैं प्रिन्सिपल

सिगरेट के अंदर का विष शरीर की प्रतिरोधक क्षमता धीरे-धीरे कमज़ोर करने लगता है, जिससे कि कैंसर की कोशिकाओं को शरीर के अंदर मारने की क्षमता कम होने लगती है। जब ऐसा होता है तो कैंसर कोशिकाएं निर्विघ्न रूप से शरीर में बढ़ने लगती हैं। तम्बाकू का विष कोशिका के डी.एन.ए. को या तो नष्ट कर देता है या परिवर्तित कर देता है। डी.एन.ए. कोशिका की निर्देशिका होती है जो कोशिका की सामान्य क्रिया और वृद्धि नियंत्रित करती है। यदि डी.एन.ए. नष्ट हो जाता है तो कोशिका अनियंत्रित रूप से बढ़ने लगती है और एक रसौली का रूप लेने लगती है जो कैंसर होता है। ऐसे में लोगों को इससे दूर रहना चाहिए।

देवेन्द्र कुमार यादव, प्रिन्सिपल होली ब्लासम स्कूल, झज्जर हरियाणा।