क्योंकि अब पापा मेरे पास नहीं …

Slider 1
« »
17th June, 2019, Edited by Focus24 team

फीचर्स डेस्क ।  उनका सबसे पसंद का नाश्ता सूजी ब्रेड आमलेट+Healthy drinks जब भी मैं याद करती हूं तो पापा मेरे पास होते हैं और उन्हीं के लिए चार लाइन में बोलती हूं.जब जब हेल्प करते हैं तो कहते हैं।  क्योंकि अब पापा मेरे पास नहीं . सपने में आते है और कहते जाते हैं-

कोई तुमसे पूछे कौन था
तुम कह देना कोई खास नहीं...

बस मेरे पापा
एक दोस्त, पक्का कच्चा सा ,
एक झूठ, आधा सच्चा सा,
जीवन का ऐसा ,साथी है जो ,
पास होकर भी , पास नहीं !
कोई तुमसे पूछे
कौन था
तुम कह देना
कोई खास नहीं ...

बस मेरे पापा
एक साथी जो, अनकही सी ,
कुछ बातें, कह जाता है।
यादों में जिसका,धुंधला सा ,
एक चेहरा ही , रह जाता है।
यूं तो उनके,ना होने का ,
मुझको कोई पता नहीं ,
पर कभी-कभी ,वो आँखों से,
आंसू बनके , बह जाता है,
कोई तुमसे पूछे 
कौन था
तुम कह देना 
कोई खास नहीं...बस मेरे पापा
साथ बनकर,जो रहता है
वो दर्द बाँटता ,जाता है ,
भूलना तो चाहूँ
उनको पर,वो यादों में
छा जाता है।
अकेला महसूस ,करूँ कभी जो ,
सपनो में आ जाता है ।
मैं साथ खड़ा हूँ
सदा  तुम्हारे ,
कहकर साहस 
दे जाता है !
ऐसे ही रहता है 
साथ मेरे की ,
उसकी मौजूदगी का
आभास नहीं !
कोई तुमसे पूछे 
कौन था
तुम कह देना
कोई खास नहीं ....

पर सच वह मेरे पापा ,मेरे पापा ओ मेरे पापा

कंटेंट सोर्स : सुनीता सिंह।