अलविदा 2019 : खतरनाक हथियारों से कितना शक्तिशाली हुआ इस वर्ष हिंदुस्तान

Slider 1
Slider 1
Slider 1
Slider 1
« »
31st December, 2019, Edited by manish shukla

नेशनल डेस्क । दुनिया में भारत विश्व ​शक्ति बनकर उभर रहा है । भारत की रक्षा प्रतिरक्षा प्रणाल बेहद ही उच्च स्तर की और पूरी दुनिया में भारतीय सैन्य शक्ति चौथा स्थान रखती है। इस वर्ष देश की रक्षा प्रतिरक्षा को बहुत ही अधिक मजबूत किया गया। उसमें वैज्ञानिक तकनीक से लेकर हथियारों की खरीद फरोख्त शामिल रही। कयी चीजें दुनिया के लिये चकाचौंध करने वाली हैं, जिसमें क्रूज मिसाइल का सुखोई में आना आदि भी शामिल है। जिससे भारत दुनिया की सबसे खतरनाक और मजबूत सैन्य शाक्ति में से एक बन चुका है। इस वर्ष कितना मजबूत हुआ भारत का डिफेंस सिस्टम आपको हम इस खबर में बताते हैं। 

मैन पोर्टेबल एंटी टेंक गाइडेंड मिसाइल 
भारत ने दुश्मन की टैंकों व दूसरे बख्तरबंद वाहनों को तबाह करने के लिये मैन पोर्टेबल एंटी टेंक गाइडेंड मिसाइल तैयार की है। डीआरडीओ की यह मिसाइल ढाई किलोमीटर तक वार कर भयंकर तबाही मचा सकती है। 

ब्रह्मोस मिसाइल 
ब्रह्मोज क्रूज मिसाइल को भारतीय वायुसेना के सुखोई 30 विमान से परीक्षण कर लिया गया है और लंबी दूरी की मिसाइलों को एकीकृत करने वाला भारत दुनिया का पहला देश बन गया है। यह मिसाइल 290 किलोमीटर तक सटीक निशाना भेद सकती है। इसे पनडुब्बी, सम्रुद्री जहाज, लडाकू विमान, व जमीन से भी दागा जा सकता है। यह मध्यम रेंज की सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है। 

रॉफेल की ताकत 
भारत ने रॉफेल जेट विमान को अपने सैन्य बेडे में शामिल किया है। फ्रांस से कुल 36 रॉफेल मिलने है और यह लडाकू जेट विमान 1 मिनट में 60 हार फूट तक उपर चला जाता है। इसमे स्कैल्प मिसाइल है, जो हवा से जमीन पर 600 किमी तक निशाना लगा सकती है। इसकी रफ्तार 2223 मिलोमीटर घंटा है । 

अपाचे हेलीकाप्टर 
भारत को 8 अपाचे हेलीकाप्टर मिल चुके हैं। जबकि कुल 22 हेलीकाप्टर का सौदा हुआ है। यह दुनिया का सर्वाधिक उन्नत बहुउद्देशीय व बृहद स्तर पर हमला करने वाला हेलीकॉप्टर है। इसे फ्लाइंग टैंक भी कहते हैं। यह हर मौसम में आसानी से काम कर सकता है। यह 279 किलो मीटर की रफ्तार से उड़ सकता है और यह राडार से भी बच जाता है। 

अस्त्र मिसाइल 
भारत ने हवा से हवा में मार करने वाली स्वदेशी मिसाइल अस्त्र का भी सफल परीक्षण कर लिया है। इसे मिराज, मिग, तेजस जैसे लडाकू विमानों के साथ एकीकृत किया जायेगा। 

आईएनएस खंडेरी 
भारत नौरा सेना के बेडे में स्कॉर्पीयन श्रेणी की दूसरी पनडुब्बी आईएनएस खंडेरी शामिल की गयी है। यह एंटीशिप मिसाइलों व टारपीडो से युक्त है। 

आईएनएस नीलगिरि 
समुद्री निगरानी के लिये, राडार से बचने और बेहतर गतिशीलता संबंधी डिजाइन के साथ नई तकनीकी अवधारणा वाली आईएनरएस नीलगिरी भारतय नौसेना में शामिल की गयी है। 


स्पाइस बम 2000 
बालाकोट में सर्जीकल स्ट्राइक के दौरान जिन बमों का इस्तेमाल किया गया वह स्पाइस 2000 बमों का नवीनीकृत प्रसंस्करण है। इसकी मारक क्षमता सटीक है और 60 कीमी की रफ्तार से यह लक्ष्य भेद सकता है। 

एस 400 मिसाइल 
भारत ने रूस से एस 400 मिसाइल की खरीद पर फैसला लिया है। यह मिसाइल विमानों, क्रूज और बैलिस्टिक मिसाइलों तथा जमीनी ठिकानों को तबाह करने की क्षमता रखती है। इससे एक साथ तीन मिसाइल दागी जा सकती हैं। इससे किसी भी तरह का मिसाइल व अन्य हमला नाकाम किया जा सकता है। 

असॉल्ट एके 203 राइफल 
भारत में असॉल्ट राइफल एके 203 का जल्ट ही उत्पादन शुरू हो जायेगा। इसका वजन 3.6किलो व मारक क्षमता 500 मीटर होगी।