गणतंत्र दिवस पर आगरा कॉलेज की तीन कैडेट्स राजपथ पर करेंगे कदमताल

Slider 1
« »
19th January, 2021, Edited by Focus24 team

आगरा सिटी। विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को है। इसकी परेड में भाग लेने का सपना प्रत्येक कैडेट्स का होता है और उसमें भी राजपथ पर मार्च करते हुए देश के राष्ट्रपति को सलामी देने का। अपने इसी सपने को साकार करने के लिए कैडेट्स दिन और रात एक कर देते हैं। इस गणतंत्र दिवस पर ताजनगरी की एनसीसी आर्मी विंग आगरा कॉलेज की तीन कैडेट्स गौरवशाली परेड में शामिल होंगी। और खाकी पहनकर राजपथ पर कदमताल करते हुए अपने सपने को साकार करेंगी। साथ ही गत वर्षों से राजपथ की परेड में महाविद्यालय के कैडेट्स की शामिल होने की परंपरा को बनाए रखेंगी। कंपनी कमांडर लेफ्टिनेंट अमित अग्रवाल ने बताया कि इस वर्ष स्नातक की छात्रा सीनियर अंडर ऑफिसर लक्ष्मी बसवराज परेड का हिस्सा बनेगीं। पिछले वर्ष वह प्री आरडीसी तृतीय तक पहुंच पाई थीं। लेकिन इस बार पुनः अथक परिश्रम के बाद उन्होंने अपना लक्ष्य प्राप्त कर लिया। स्नातक की छात्रा सीनियर अंडर ऑफिसर शिवानी परमार भी अपने दूसरे प्रयास में समस्त बाधाओं को पार करते हुए राजपथ के लिए चयनित हो गई हैं। पिछले वर्ष वह भी प्री आरडीसी तृतीय तक पहुंच पाई थीं। लेकिन राजपथ पर चलने का उनका सपना इस बार पूरा हो गया। वहीं स्नातक में ही अध्ययनरत् अंडर ऑफिसर ममता का अपने प्रथम प्रयास में ही आरडीसी के लिए चयन हो गया। वह 26 जनवरी को राजपथ पर मार्च करेंगी। 

बता दें कि गणतंत्र दिवस शिविर में भाग लेने के लिए कैडेट को एक लंबी चयन प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। 100 दिन से अधिक दिनों तक अपने घर से दूर रहकर इन शिविरों में अपने आपको कड़े प्रशिक्षण से गुजारते हैं। कैडेट को 10-10 दिन के लिए 3 प्रीआईजीसी, 1 आईजीसी तथा तीन प्रीआरडीसी शिविरों में विभिन्न स्तरों पर ड्रिल, कमांड, गार्ड, एनआईएपी, फ्लैग एरिया आदि प्रतियोगिताओं में अपने आपको सर्वोत्तम सिद्ध करना होता है। इसके उपरांत 1 जनवरी से 31 जनवरी तक गणतंत्र दिवस शिविर में कैडेट प्रतिभाग करते हैं। इस शिविर में सभी कैडेट्स की दिनचर्या बहुत ही परिश्रम से परिपूर्ण होती है। प्रातः 4ः30 बजे जागरण के साथ एनसीसी निदेशालय स्थित करिअप्पा मैदान में ड्रिल का अभ्यास प्रारंभ हो जाता है, जिसमें भारत के सबसे तेज तर्रार व दक्ष ड्रिल उस्ताद इन कैडेट्स को ड्रिल का अभ्यास कराते हैं। दोपहर भोज के बाद दो बजे फॉल इन (एकत्रीकरण) की सीटी के साथ सायं 4ः15 तक सघन अभ्यास चलता है। सायं 4ः30 से छह बजे तक रोल कॉल होता है, जिसमें कंटिजेंट कमांडर अपने निदेशालय के कैडेट्स को मोटिवेट करते हैं।

 एनसीसी आगरा ग्रुप कमांडर ब्रिगेडियर मनोज मोहन ने बताया कि शिविर में प्रतिभाग कर रहे कैडेट्स को जब राजपथ पर रिहर्सल करना होता है, उस दिन देर रात्रि 1ः30 बजे से दिल्ली की भयंकर सर्दी में अभ्यास करना होता है, जो प्रातः 11 बजे तक चलता है। सभी कैडेट्स बचे हुए समय में अपनी वर्दी सही करते हैं तथा भारत के अन्य प्रांतों से आए कैडेट्स के साथ मिलकर उनकी संस्कृति, भाषा, खान-पान, वेश-भूषा आदि के बारे में अनुभव साझा करते हैं। उपरोक्त कैडेट्स के गणतंत्र दिवस परेड में चयन पर एनसीसी आगरा ग्रुप कमांडर ब्रिगेडियर मनोज मोहन, आगरा कॉलेज के प्राचार्य डॉ एसके मिश्रा, वाहिनी के कमान अधिकारी कर्नल अजय मिश्रा एवं कंपनी कमांडर लेफ्टिनेंट अमित अग्रवाल ने प्रसन्नता व्यक्त की है तथा कैडेट्स को बधाई दी है।