एसबीआई ने कोविड रोगियों के लिए शुरू की ‘कवच पर्सनल लोन’योजना

एसबीआई ने कोविड रोगियों के लिए शुरू की ‘कवच पर्सनल लोन’योजना

मुंबई। कोविड के उपचार संबंधी खर्चों के कारण वित्तीय तनाव का सामना करने वाले अपने ग्राहकों को एक महत्वपूर्ण राहत प्रदान करने के अपने प्रयास में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने एक अनूठी जमानत-मुक्त लोन योजना ‘कवच पर्सनल लोन’ को लाॅन्च किया है। इसके तहत ग्राहकों को व्यक्तिगत ऋण प्रदान किया जाएगा। ऋण ग्राहक के स्वयं और परिवार के सदस्यों के कोविड उपचार के खर्च को कवर करता है। एसबीआई के अध्यक्ष दिनेश खारा ने इसको लॉन्च किया। इस योजना के तहत ग्राहक 60 महीने के लिए 8.5 प्रतिशत प्रति वर्ष की प्रभावी ब्याज दर पर 5 लाख रुपए तक का पर्सनल लोन हासिल कर सकते हैं, जिसमें तीन महीने की मोरेटोरियम अवधि भी शामिल है। यह अनूठा प्रोडक्ट को-लेटरल फ्री पर्सनल लोन की केटेगरी के तहत पेश किया जा रहा है और इस श्रेणी में सबसे कम ब्याज दर पर मिलता है। इस योजना के तहत कोविड से संबंधित चिकित्सा व्यय के लिए पहले से किए गए खर्च की प्रतिपूर्ति भी प्रदान की जाएगी।

श्री खारा ने कहा, ‘‘हमें कोविड -19 संकट के मद्देनजर प्रभावित लोगों की मदद के लिए एसबीआई कवच व्यक्तिगत ऋण योजना शुरू करने पर खुशी का अनुभव हो रहा है। हमें विश्वास है कि यह नई योजना लोगों को बिना किसी परेशानी के कोविड उपचार संबंधी खर्चों का इंतजाम करने के लिए आवश्यक वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। इस रणनीतिक ऋण योजना के साथ हमारा उद्देश्य मौद्रिक सहायता तक पहुंच प्रदान करना है - विशेष रूप से इस कठिन परिस्थिति में उन सभी के लिए जो दुर्भाग्य से कोविड से प्रभावित हुए हैं। एसबीआई में हमारा निरंतर प्रयास ग्राहकों की आवश्यकताओं के अनुरूप वित्तीय समाधान तैयार करने की दिशा में काम करना है।’’

वर्तमान कठिन समय में भारतीय स्टेट बैंक ने कोविड से प्रभावी ढंग से निपटने की दिशा में कोविड के उपचार और अन्य व्यक्तिगत खर्चों के लिए ग्राहकों की वित्तीय जरूरतों को ध्यान में रखने का हरसंभव प्रयास किया है। यह ऋण उत्पाद आरबीआई के कोविड राहत उपायों के अनुसार बैंकों द्वारा बनाई जा रही कोविड लोन बुक का भी हिस्सा होगा।