पब्लिक प्लेटफॉर्म

Karwa chauth special: वापसी करवाचौथ की

करवाचौथ और राजीव याद आ रहे थे, उसे याद आया उसके पहले करवाचौथ पर राजीव उसे मैटिनी शो में विवाह फ़िल्म दिखा कर लाया था, उसने ऑफिस से...

असमंजस: प्यार या फर्ज किसे चुनेगी संध्या

मेरा मन इस बात की गवाही नहीं दे रहा था कि मैं अपने माता पिता को कैसे उनके हाल पर छोड़ कर सात समुंदर पार चली जाऊं। अभी तक तो…...

नवरात्रि स्पेशल : कन्या पूजन में ये कैसा गिफ्ट

नैना हाथों में एल बड़ी से नीली रंग की बैग लिए बैठक में आ गयी और एक-एक करके सभी कन्याओं को गिफ़्ट देने लगी। सासु माँ ने कन्याओं के...

माता रानी का चमत्कार: राह दिखाई

घर लौटा तो उसकी रह रह कर याद आती थी, कई बार उसके नम्बर डायल करने चाहे पर हिम्मत नहीं हुई….

ईर्ष्या का जहर

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद जब आंचल नौकरी के लिए हाथ पैर मार रही थी तो अभिनव ने सुझाव दिया कि उसी के क्लीनिक में साथ वाले कमरे में...

पश्चाताप 

प्रभा ,भाभी की सास बनने का भी प्रयत्न करती रहती थी। भाभी सवेरे से उठकर सुबह का नाश्ता, दोपहर तथा रात का खाना इत्यादि सभी काम करती...

लघु कथा: ये कैसी किस्मत

किस्मत से कम और किस्मत से ज्यादा कभी किसी को नहीं मिलता..

नवरात्रि स्पेशल: ये कौन शिल्पकार है

सृजन कर्ता मां की छवि को साकार करता शिल्पकार,देता है मां की प्रतिमा को आकार आइए जानते है एक शिल्पकार के मन के उदगार..

सफलता दो कदम....

चाय की दुकान पर आकर किसी बताया अरे सुलोचना ने तो आत्महत्या करने की कोशिश की वह हॉस्पिटल में एडमिट है, सब हॉस्पिटल की तरफ भागते हैं,...

हिंदी दिवस पर विशेष, एडजेस्टमेंट

हिन्दी तुम उदास मत हो कोई न कोई जरुर तुम्हारे गले में वरमाला पहनाकर तुम्हारा वरण करेगा और तुम उसकी प्रियतमा कहलाओगी ।