प्रेगनेंसी की ऐसे करें प्लानिंग,100 परसेंट नॉर्मल डिलीवरी होगी

मां बनने से बड़ा सुख और कोई हो ही नहीं सकता। आजकल जिसका भी सुनो सिजेरियन डिलीवरी ही होती है। इसका क्या कारण हो सकता है, कभी सोचा है आपने? अगर आप भी प्लान कर रहे है बेबी और चाहती है कि आपकी नॉर्मल डिलीवरी ही हो तो तुरंत पड़ें ये आर्टिकल....

प्रेगनेंसी की ऐसे करें प्लानिंग,100 परसेंट नॉर्मल डिलीवरी होगी
प्रेगनेंसी की ऐसे करें प्लानिंग,100 परसेंट नॉर्मल डिलीवरी होगी

फीचर्स डेस्क। कीर्ति मां बनने वाली थी। उसने कई सपने सजा रखे थे बच्चे को लेकर। सोचा था बच्चा होते ही उसे अपना दूध पिलाऊंगी। पर कीर्ति के बच्चा ऑपरेशन से हुआ। कीर्ति को तो पूरे एक दिन होश ही नहीं आया तो बच्चे को दूध कैसे पिलाती अपना। और कमजोरी इतनी कि तीन दिन तक तो बच्चा संभाल ही नहीं पाई। तो बच्चे को ऊपर का दूध पीना पड़ा। कीर्ति जैसी समस्या अधिकतर उन सभी लेडीज को होती है जिनके सिजेरियन से डिलीवरी होती है। अगर आप मां बनने जा रही है या फैमिली प्लानिंग की सोच रही है तो आज से ही ये तैयारियां शुरू कर दें।

नॉर्मल डिलीवरी क्यों है जरूरी

ऐसा रिसर्च से भी साबित हुआ है कि नॉर्मल डिलीवरी से पैदा हुए बच्चे ज्यादा स्ट्रॉन्ग होते है। संघर्ष के साथ जन्मे बच्चों में इम्यूनिटी ज्यादा होती है और वो मेंटली भी स्ट्रॉन्ग होते है। इसलिए अपनी लाइफस्टाइल बदलिए। प्रेगनेंट होते ही अधिकतर लेडीज आराम करना ही पसंद करती है। उन्हे ये डर सताता है कि बच्चे को कुछ न हो जाए। पर ऐसा नहीं है आप जितना एक्टिव रहेंगी,बेबी उतना स्वस्थ पैदा होगा और एक्टिव भी रहेगा।

मानसिक तैयारी है जरूरी

आजकल युवा कपल बच्चा जल्दी प्लान नहीं करना चाहते। कारण उनके अंदर का डर है कि बच्चा आ जाने के बाद हम फ्रीली लाइफ एंजॉय नहीं कर पाएंगे। या फिर किसी चीज की टेंशन रहती है आपको तो भी इन सब चीजों का असर प्रेगनेंसी पर पड़ता है। इसलिए जब भी आपको बेबी प्लान करना है तो मानसिक रूप से तैयार करें खुद को। सोच को हमेशा पॉजिटिव रखें। ऐसा करने से बेबी स्वस्थ होगा और डिलीवरी भी नॉर्मल होगी।

अपनी क्रेविंग समझें

लेडीज को प्रेगनेंसी के दौरान कभी मीठा खाने की तो कभी तीखा, चटपटा खाने की इच्छा होती है। तो ऐसे में हम चॉकलेट या फास्ट फूड की तरफ भागते है। इन सब चीजों से क्रेविंग खत्म होती है कि नहीं ये तो नहीं पता पर हां मोटापा जरूर बढ़ जाता है जिससे शरीर में वॉटर रिटेंशन बढ़ता है। और इस कारण सिजेरियन के चांस ज्यादा होते है। आप चॉकलेट या फास्ट फूड की जगह कुछ हेल्थी ऑप्शंस चुन सकती है जिससे बॉडी एक्टिव रहे और आपका बेबी नॉर्मल हो। 

इसे भी देखें:- क्या है वो शॉपिंग मिस्टेक्स जो आप डायमंड ज्वैलरी खरीदते टाइम कर बैठती है

जरूरी है फिजिकल एक्टिविटी

जी हां प्रेगनेंसी के दौरान आपको सभी लोग कहेंगे ये खाओ वो खाओ ताकि बेबी हेल्थी हो। पर ज्यादा खाने के चक्कर में हमारा वजन तो बढ़ जाता है और फिजिकल एक्टिविटी कम हो जाती है। जिससे भी नॉर्मल डिलीवरी में प्रॉब्लम आती है। तो आप बेशक खाइए पर अपनी फिजिकल एक्टिविटी को भी बरकरार रखिए। डॉक्टर की सलाह अनुसार एक्सरसाइज करें। मेडिटेशन और योग करें। इससे शरीर में एक्टीवनेस बनी रहेगी और आपकी नॉर्मल डिलीवरी के चांस भी बढ़ जायेंगे। इन सब के अलावा आपको लोअर बॉडी का ऑयल से मसाज भी करना चाहिए। क्योंकि प्रेगनेंसी टाइम वेट गेन होता ही है, इससे हमारी मसल्स स्टिफ हो जाती है और नॉर्मल डिलीवरी का प्रेशर नहीं झेल पाती । मसाज से हमारी बॉडी नॉर्मल डिलीवरी के लिए तैयार हो जाती है।

इन सभी बातों के साथ साथ ये भी ध्यान रखें कि जितनी आपकी बॉडी एक्टिव रहेगी उतनी आपके नॉर्मल डिलीवरी की चांस ज्यादा रहेंगी। मोटापे से बचे। अपने आपको किसी भी फिजिकल एक्टिविटी में बिजी रखें और सबसे जरूरी हमेशा एक बात माइंड में रखे कि मेरा बेबी स्वस्थ होगा। पॉजिटिव थिंकिंग का बहुत प्रभाव पड़ता है आपके बच्चे पर।

इन सभी बातों का ध्यान रखें तो यकीनन नॉर्मल डिलीवरी ही होगी। और दर्द से बचने के चक्कर में अपने बच्चे और अपने शरीर के साथ खिलवाड़ न करे।

picture credit:imagesbazaar.com