मीराबाई ने कहा- मेरे मैडल जीतने के बाद लड़कियों की सोच में बदलाव आएगा

मीराबाई ने कहा- मेरे मैडल जीतने के बाद लड़कियों की सोच में बदलाव आएगा

टोक्यो। टोक्यो ओलम्पिक में रजत पदक जीत कर इतिहास बनाने वाली महिला भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने टोक्यो से नयी दिल्ली में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि उनके इस पदक के बाद देश की लड़कियों के सोच में बदलाव आएगा और ज्यादा से ज्यादा लडकियां खेलों में सामने आएंगी। मीराबाई ने कहा ,'मैं कम लड़कियों को मैदान में उतरते देखती हूँ लेकिन मेरे इस पदक के बाद उनकी सोच बदलेगी और वे ज्यादा से ज्यादा संख्या में खेलों में उतरेंगी। '

रजत जीतने के बाद मीराबाई ने कहा कि पिछले रियो ओलम्पिक में उन्होंने जो गलतियां की थीं उससे उन्होंने सबक लेकर पिछले पांच वर्षों में सुधार किया जिसका अच्छा परिणाम सामने आया है। मीरा के साथ उनके कोच विजय भी बैठे हुए थे और उन्होंने कहा कि वह 2014 से मीरा के साथ टीम के रूप में जुड़े थे और रियो में उनसे उम्मीद थी लेकिन उन्होंने रियो की नाकामी के बाद उन्होंने मीरा के साथ कड़ी मेहनत कीऔर पिछली गलतियों को दूर करने पर काम किया।

मीरा के गले में इस दौरान उनका रजत पदक टंगा हुआ था। उन्होंने बताया कि पिछले पांच वर्षों में वह सिर्फ पांच दिन के लिए अपने घर गयी थीं और इस दौरान उन्होंने अपना सारा ध्यान सिर्फ अपनी ट्रेनिंग पर लगा रखा था।