झांसी : प्रदेश में बिजली की कोई कमी नहीं है इसलिए आपूर्ति में किसी भी प्रकार की लापरवाही स्वीकार्य नहीं : ऊर्जा मंत्री

झांसी : प्रदेश में बिजली की कोई कमी नहीं है इसलिए आपूर्ति में किसी भी प्रकार की लापरवाही स्वीकार्य नहीं : ऊर्जा मंत्री

झांसी। उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री प़ं श्रीकांत शर्मा ने बुधवार को झांसी मंडल के जालौन, ललितपुर और झांसी जिले के जनप्रतिनिधियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग में स्पष्ट रूप से कहा कि प्रदेश में बिजली की कोई कमी नहीं है इसलिए आपूर्ति में किसी भी प्रकार की लापरवाही स्वीकार्य नहीं है। ऊर्जा मंत्री ने झांसी में बिलिंग व मीटर बदलने में अनियमितता की शिकायतों पर भी कमिटी बनाकर जांच कराने के निर्देश दिए,साथ ही विधायक निधि से होने वाले कार्यों के लंबित होने के प्रकरण पर भी नाराजगी जाहिर करते हुए तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए। वितरण क्षेत्र में सुधारों के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्देश पर शुरू की गई “ रिवैम्प डिस्ट्रीब्यूशन सेक्टर स्कीम” के लिए सभी जनप्रतिनिधियों से प्रस्ताव भी मांगे हैं। नई योजना के तहत नए 33/11 केवी उपकेंद्रों का निर्माण, ओवरलोड 33/11 केवी उपकेंद्रों की क्षमता वृद्धि, एलटी लाइनों पर एबी केबलिंग, 33 केवी व 11 केवी के फीडरों का विभक्तिकरण, जर्जर तारों को बदलने का कार्य, नए 11 केवी फीडरों का निर्माण, ओवर लोड ट्रांसफॉर्मरों की क्षमता वृद्धि, ओवरलोडिंग समाप्त करने के लिए नए ट्रांसफॉर्मर लगाने का कार्य समेत अन्य आवश्यक कार्य शुरू किए जाने हैं, जिससे विद्युत आपूर्ति संबंधी बहुत सी समस्याओं का स्थायी निराकरण हो जाएगा। उन्होंने दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक को इस संबंध में सभी जनप्रतिनिधियों से शीघ्र ही प्रस्ताव लेकर कारपोरेशन को भेजने के निर्देश भी दिये।

उन्होंने एक ही स्थान पर ट्रांसफार्मर के बार-बार जलने व मरम्मत के बाद भी फुक जाने की शिकायतों पर जवाबदेही तय करने के साथ ही झांसी वर्कशॉप की ऑडिट के निर्देश भी दिए। वर्कशॉप के ट्रांसफॉर्मरों की मार्किंग कराने को भी कहा। ललितपुर के माधोगढ़ स्थित 132 केवी उपकेंद्र की लाइनों के निर्माण में देरी पर जवाबदेही सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। झांसी, ललितपुर व जालौन में कई गांवों में ट्रांसफार्मर लगे होने के बाद भी कनेक्ट न होने की शिकायत पर मुख्य अभियंता को तत्काल कार्रवाई करने को कहा। उन्होंने एमडी से पूरे डिस्कॉम में इसकी समीक्षा करने और समाधान के निर्देश दिए।

श्शर्मा नेू कहा कि जिन भी गांवों में एबी केबलिंग का काम जहां भी हो गया है उसकी जानकरी जनप्रतिनिधि को जरूर दी जाए, साथ ही होने वाले कार्य भी शीघ्र कराने के निर्देश दिए। ट्यूबवेल कनेक्शन के लिए लंबित आवेदनों का भी शीघ्र निस्तारण करने व ट्यूबवेल फीडर सेपरेशन के सेकंड फेज का काम भी शीघ्र करने का निर्देश दिया। मंडल के जनपदों में जिन क्षेत्रों में नए उपकेंद्र प्रस्तावित हैं उनका प्रस्ताव रिवैम्प योजना में अवश्य ले लें। ट्रांसफार्मर क्षमता वृद्धि के प्रस्तावों को तत्काल मंजूर कराकर काम भी तेजी से करवाये जाएं।

उन्होंने विद्युत आपूर्ति व्यवस्था के लिए सभी फीडरों पर संबंधित क्षेत्र की आपूर्ति का रोस्टर चस्पा कराने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आपूर्ति सम्बन्धी समस्याओं पर किसी भी प्रकार का तर्क स्वीकार्य नहीं है। अधिकारी इस बात का विशेष ध्यान रखें। जनता व जनप्रतिनिधियों से नियमित संवाद रहे, जिससे समस्याओं का निस्तारण करने में आसानी हो। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी सोशल मीडिया के माध्यम से शिकायतों को सुनें। 1912 की शिकायतों और टेलीफोन पर आने वाली शिकायतों को भी तेजी से निस्तारित करें। ऊर्जा मंत्री ने जनप्रतिनिधियों के सुझावों व समस्याओं का एक सप्ताह में निस्तारण करने के निर्देश भी दिए।