केन्द्र व प्रदेश से भाजपा को हटाना है तो जन संघर्ष जरूरी : येचुरी

केन्द्र व प्रदेश से भाजपा को हटाना है तो जन संघर्ष जरूरी : येचुरी

प्रयागराज। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी)के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि केंद्र और प्रदेश से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार को सत्ता से हटाना है तो जन संघर्ष जरूरी है। सीपीईएम के 23वें राज्य सम्मलेन के अंतिम दिन सोमवार को श्री येचुरी ने कहा कि भाजपा ने देश में लोकतंत्र को समाप्त कर दिया है और अगर कोई व्यक्ति सरकार की नीतियों को लेकर मुंह खोलता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाती है। ऐसी सरकार को हटाने के लिए जन संघर्ष ही मात्र एक उपाय है।

श्री येचुरी ने कहा कि चुनावी गठबंधन इसका उपाय नहीं है। इसके लिए जब जन संघर्ष तेज होगा तो जनता आपातकाल के समय की तरह विकल्प तलासेगी। उस समय जन संघर्ष इतना तेज हुआ कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को अपनी सत्ता से हाथ धोना पड़ा था। आज उसी तरह के जन संघर्ष की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी में हुई घटना की जितनी निंदा की जाए वह कम है। उन्होंने सांसद को बर्खास्त कर रिपोर्ट दर्ज करने के बाद उनकी गिरफ्तारी की मांग की। सांसद के पुत्र की तत्काल गिरफ्तारी के साथ ही सख्त कार्रवाई की भी मांग की। उन्होंने इस पूरे मामले की जांच उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से कराए जाने की मांग की ह

महासचिव ने कहा कि कोरोना टीकाकरण को लेकर सरकार द्वारा जो दावा किया जा रहा है, वह मिथ्या है। अभी तक टीकाकरण के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है। केंद्र और प्रदेश सरकार को जनता के दु:ख, दर्द से कोई लेनादेना नहीं है उनको सिर्फ सत्ता की भूख है। उन्होंने दोहराते हुए कहा कि ऐसी सरकारों को सत्ता से हटाने के लिए सभी को एकजुट होकर जन संघर्ष तेज करने की जरूरत है।