Expert Advice: फिटनेस एक्सपर्ट तुलिका सिंह से जानिए कि वॉकिंग या रनिंग करते समय कौन से जूते है सही

अपनी हेल्थ को लेकर आजकल लेडीज भी काफी सोचने लगी है। ऐसे में जो सबसे बेस्ट ऑप्शन उनको लगता है वो है वॉक या रन। पर हम कोई भी शूज पहन कर वॉक या रन पर चली जाती है जिससे बाद में लेग्स पेन होने लगते है। इस गलती को आप न करें इसलिए हम आपके लिए लेकर आए है ये आर्टिकल जिसमें हम एक्सपर्ट से जानेंगे कि वॉक या रन करते टाइम कौन से शूज है हमारे लिए बेस्ट….

Expert Advice: फिटनेस एक्सपर्ट तुलिका सिंह से जानिए कि वॉकिंग या रनिंग करते समय कौन से जूते है सही

फीचर्स डेस्क। जब से कोरोना ने दस्तक दी है तब से हमें हेल्थ की इंपोर्टेंस पता चली है। हम सभी हेल्थी एंड फिट रहना चाहते है। हमारी इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग हो इसके लिए हम सब पूरी कोशिश करते है। पर सिर्फ खाना पीना ही काफी नहीं हेल्थी बॉडी के लिए। एक्सरसाइज भी आपकी बॉडी को हेल्थी रखने में पूरा सपोर्ट करती है। और हम 30 प्लस लेडीज के लिए एक्सरसाइज या वर्कआउट उतना ही जरूरी है जितना कि यंग जेनरेशन के लिए। पर कई बार हम छोटी बट इंपॉर्टेंट पॉइंट्स मिस कर जाते है। ऐसा ही एक इंपॉर्टेंट प्वाइंट है वॉकिंग या रनिंग के टाइम हम कोई भी शूज पहन लेते है। जो कि गलत है तो आइए जानिए हमारी फिटनेस एक्सपर्ट से कि हमें कब कैसे शूज पहनने चाहिए।

लाइट वेट शूज

हमारी फिटनेस एक्सपर्ट तूलिका कहती है कि अगर आप बहुत फास्ट स्पीड से वॉक या रन कर रही है तो आपको लाइटवेट ट्रेनर की जरूरत पड़ेगी। लाइट वेट शूज को रेसिंग फ्लैट्स, या क्रॉस कंट्री स्पाइक्स के नाम से भी जाना जाता है। ये स्पीड वर्कआउट के लिए एक दम परफेक्ट शूज है। जो लाइट वेट शूज होते है वो पैर के नीचे कम फोम और कुशनिंग सुविधाओं के साथ बनाए जाते हैं। जिससे पैरों में नेचुरल और डायनेमिक मोशन आराम से हो सके। ये बहुत कंफरटेबल होते है आपके पैरों के लिए। इसलिए रेस के लिए इस टाइप के शूज ही प्रेफर करें।

ट्रेल शूज

अब आपको ट्रेल शूज के बारे में बताते है। ट्रेल शूज  रनर्स को कीचड़, गंदगी, पथरीले रास्तों और अन्य ऑफ-रोड प्रॉब्लम्स से बचाता है। ये शूज आपके पैरों को सपोर्ट, स्टेबिलिटी और प्रोटेक्शन देते है। इन जूतों को डिज़ाइन ही ऐसे किया गया है जो मिट्टी से लेकर घास, सड़क और हार्ड सर्फेस वाले रास्तों में आपके पैरों के लिए एक दम परफेक्ट हो। आपको कोई भी नुकसान न पहुंचे। आप ट्रेल शूज़ को रनिंग स्नीकर्स और हाइकिंग शूज़ का मिक्सचर भी मान सकती है। ऊबड़-खाबड़ और पथरीले रास्तों से आपके पैरों की रक्षा तो करते ही है ये शूज साथ ही आपके एंकल का भी सपोर्ट करते है। इतना ही नहीं, ये पानी वाली जगहों पर अच्छी ग्रिप देते है। यानी कि आप इन शूज को अगर पहनती है तो आपके फिसलने का डर नहीं रहेगा।

स्टेबिलिटी शूज

तूलिका कहती है कि स्टेबिलिटी शूज स्नीकर की ही तरह होते है और ये रनिंग के लिए परफेक्ट एंड कंफरटेबल है। ये पैरों के लिए बहुत कंफरटेबल रहते है। आप कितनी भी लंबी दूरी तय कर सकते है इन शूज की मदद से। आपके पैरों पर ज्यादा जोर नहीं पड़ेगा। आप स्टेबिलिटी शूज को कितनी भी देर तक पहन सकती है। ये पैरों को नुकसान नहीं पहुंचाते।

मोशन कंट्रोल शूज़

जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है कि ये शूज आपके मोशन को कंट्रोल करते है। ये शूज आपको पैर लचकने से, अचानक मोच लग जाने जैसी प्रॉब्लम्स से बचाएंगे। कहने का मतलब ये है कि इन शूज की मदद से आपकी बॉडी बैलेंस रहती है।

कुशन्ड शूज

ये शूज बहुत मुलायम और वॉकिंग के लिए एक दम परफेक्ट होते है। इन शूज में जो गद्दे नुमा तला होता है वो आपके पैरों के आराम को ध्यान में रख कर बनाया जाता है। एक बात और ध्यान रखने वाली है कि जब भी आप वॉकिंग के लिए शूज चूज करे पतले सोल वाले ही करें। एक्सरसाइज या रनिंग ले लिए आप मोटे सोल वाले ले सकती है। इन शूज को नेचुरल पेडेड शूज भी कहते है।

तूलिका कहती है कि जब भी आप शूज परचेज करें पहले तो ये बात माइंड में रखें कि आपको किसलिए शूज लेने है। अगर एक्सरसाइज या रनिंग के लिए लेने है तो उसके अकॉर्डिंग शूज ले और अगर वॉक करना है तो उसके अकॉर्डिंग ही शूज ले। जल्दबाजी में अपनी बॉडी के साथ कोई समझौता नहीं करना है। और सबसे इंपॉर्टेंट कि आप अपने पैर के कंफर्ट के अकॉर्डिंग ही शूज लें।

वॉक करते समय ध्यान रखने योग्य बातें

हमारी फिटनेस एक्सपर्ट तूलिका सिंह कहती है कि वॉक या रनिंग करते समय हमारी छोटी सी गलती बहुत महंगी साबित होती है। इसलिए इन बातों का ध्यान रखें।

  • जब भी वूमेंस वॉक करती है या रन करती है तो अपने पोस्चर का ध्यान जरूर रखें। आगे की तरफ ज्यादा न झुके।

  • हमेशा स्पोर्ट्स ब्रा जरूर पहनें। इससे आपकी बैक को सपोर्ट मिलता है और बैक पेन नहीं होगा।

  • एक जरूरी बात कि एक दम से वॉकिंग की या रनिंग की स्पीड न बढ़ाएं। धीरे धीरे स्पीड इनक्रीज करें।

  • ड्यूरिंग रनिंग या वॉकिंग एक साथ पानी न पिएं। सिप कर करके पानी पिएं। बैठ कर ही पानी पीएं। 

  • जब आपकी रनिंग या वॉकिंग खत्म हो जाए तब उसके 15 मिनट बाद पानी पिएं तुरंत न पिएं। क्योंकि तुरंत पीने से आपने जितनी कैलोरी बर्न की है उतनी वेस्ट हो जायेगी।

  • लास्ट प्वाइंट बट मोस्ट इंपॉर्टेंट प्वाइंट ये कि स्ट्रेचिंग जरूर करें। जिससे आपकी मसल्स रिलेक्स हो।

तो आपने जाना कि आपको कब कौन से शूज पहनने चाहिए। और वॉक करते समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। तो इन बातों का ध्यान रखे और अपने हेल्थ की इंपोर्टेंस समझते हुए वॉक ,रन या एक्सरसाइज करें।

picture credit:google, imagesbazaar.com