गुरु नानक जयंती पर जत्थे के पाकिस्तान जाने की व्यवस्था पूरी : बीबी जागीर कौर  

गुरु नानक जयंती पर जत्थे के पाकिस्तान जाने की व्यवस्था पूरी : बीबी जागीर कौर   

अमृतसर। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) को गुरु नानक देव के प्रकाश गुरुपर्व (जयंती) के अवसर पर सिख तीर्थयात्रियों के पाकिस्तान जाने की तैयारियां पूरी हो गयी हैं और जत्थे के लिए 855 वीजा मिले हैं। एसजीपीसी ने 1,046 तीर्थयात्रियों के पासपोर्ट नयी दिल्ली स्थित पाकिस्तान दूतावास को भेजे थे, जिनमें से 191 तीर्थयात्रियों को दूतावास द्वारा वीजा जारी नहीं किया गया है। एसजीपीसी अध्यक्ष बीबी जागीर कौर ने तीर्थयात्रियों के वीजा रद्द होने को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि इससे सिख तीर्थयात्रियों का मन आहत होता है। उन्होने कहा, “हर तीर्थयात्री पाकिस्तान में सिख समुदाय के पवित्र मंदिरों की यात्रा करने के लिए तरसता है और जब उन्हें वीजा नहीं मिलता है, तो उनकी धार्मिक भावनाएं स्वाभाविक रूप से टूट जाती हैं। प्रत्येक तीर्थयात्री को वीजा मिलना चाहिए ताकि अधिक से अधिक तीर्थयात्री अपने पवित्र स्थानों पर दर्शन कर सकें।”

सिख तीर्थयात्रियों का जत्था 17 नवंबर को पहले सिख गुरु की जयंती के अवसर पर गुरुद्वारा जन्म स्थान, श्री ननकाना साहिब पाकिस्तान में आयोजित होने वाले समारोहों में भाग लेने के लिए रवाना होने वाला है। एसजीपीसी के यात्रा विभाग (तीर्थयात्रा विभाग) के अनुसार, तीर्थयात्रियों को 16 नवंबर को वीजा के साथ पासपोर्ट सौंपे जाएंगे। बीबी जागीर कौर ने कहा कि जत्थे के लिए एसजीपीसी द्वारा सभी प्रबंध पूरे कर लिए गए हैं। तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए 14 और 15 नवंबर को अमृतसर में एसजीपीसी के मुख्यालय तेजा सिंह समुंदरी हॉल में कोविड-19 परीक्षण के लिए एक नि: शुल्क शिविर का आयोजन किया जा रहा है। पाकिस्तान जाने वाले प्रत्येक तीर्थयात्री के लिए रवाना होने से 72 घंटे पहले जारी की कोविड-19 रिपोर्ट ले जाना अनिवार्य है। इसके अलावा, प्रत्येक तीर्थयात्री को कोविड-19 टीके की दोनों डोज लगी होनी चाहिए।”