9 महीने पहले लापता महिला सिपाही वृंदावन में बेचती मिली माला-फूल, पुलिस को जो बताया सुनकर आप रह जाएंगे हैरान

9 महीने  पहले लापता महिला सिपाही वृंदावन में  बेचती मिली माला-फूल, पुलिस को जो बताया सुनकर आप रह जाएंगे हैरान

भोपाल/रायपुर। कभी-कभी इंसान के सामने कुछ ऐसी सेचुएसन आ जाती है कि वह कुछ भी करने को मजबूर हो जाता है। फिर वह किसी भी हद तक जा सकता है। ऐसे ही एक खबर कई न्यूज़ वेबसाइट पर वायरल हो रही है जिसको पढ़कर और सुनकर आपको भी सोचने पर मजबूर कर देगा कि आखिर क्या ऐसा हुआ जो इस महिला पुलिस को यह कदम उठाना पड़ा। जी, आज से करीब 9 महीने पहले लापता रायपुर पुलिस की महिला कांस्टेबल अंजना यूपी के वृंदावन में फूल बेचती हुई देखी गईं।

सीनियर और घर वालों से थी परेशान

खबरों कि मानें तो अंजना अपने परिजनों और सीनियर अफसरों और घर वालों से काफी परेशान हो गईं थीं।

जब लेने पहुंची पुलिस की टीम

बता दें कि अंजना सहिस के वृंदावन में फूल बेचने की जैसे ही खबर  छत्तीसगढ़ पुलिस को लगी तो एक टीम उन्हें लेने पहुंची लेकिन महिला सिपाही ने उनके साथ जाने से साफ इनकार कर दिया।

लापता होने से पहले सीआईडी विभाग भेजी गईं थी

आपको बता दें कि रायपुर शहर में तैनात अंजना सहिस को करीब 9 महीने पहले पुलिस मुख्यालय में सीआईडी विभाग भेज दिया गया था जिसके बाद वो एक दिन लापता हो गई। काफी खोजबीन हुई लेकिन अंजना का कोई पता नहीं लग सका।

मोबाइल इस्तेमाल करना भी बंद कर दिया था

अंजना की मां ने 21 अगस्त को बेटी के गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस अंजना तक इसलिए भी नहीं पहुंच पा रही थी क्योंकि उसने मोबाइल इस्तेमाल मोबाइल इस्तेमाल करना भी बंद कर दिया था पुलिस को बैंक से उसके एटीएम इस्तेमाल करने के लोकेशन की जानकारी मिली और जब टीम उसे ढूंढते हुए वृंदावन पहुंची तो महिला कांस्टेबल को फूल बेचते हुए देखकर हैरान रह गई।

ना मेरा कोई परिवार है और ना ही कोई रिश्तेदार

जब पुलिस उनको लेने पहुंची तो  महिला कांस्टेबल कृष्ण मंदिर के बाहर फूल बेच रही थी। जब पुलिस टीम ने जब उससे साथ चलने को कहा तो महिला कांस्टेबल अंजना सहिस ने लौटने से इनकार कर दिया। महिला कांस्टेबल ने कहा कि अब ना मेरा कोई परिवार है और ना ही कोई रिश्तेदार। जानकारी के मुताबिक अंजना सहिस नौकरी के दौरान कुछ वरिष्ठ अधिकारियों से परेशान थी और अपने साथी कर्मचारी से इसकी चर्चा भी की थी।