वाराणसी में GRAB कोचिंग ने 80 प्रतिशत छूट के साथ शुरू किया नया बैच

वाराणसी में GRAB कोचिंग ने 80 प्रतिशत छूट के साथ शुरू किया नया बैच

वाराणसी सिटी। कोरोना काल के बाद सब कुछ धीरे-धीरे समान्य हो रहा है। अब शिक्षण संस्थान भी पूरी सतर्कता के साथ संचालित होने लगी है। इसी क्रम में वाराणसी सिटी के सुंदरपुर स्थित GRAB CLASSES में 80% छूट के साथ अपने सभी बैच स्टार्ट कर दिया है।

एक बार में 10 स्टूडेंट्स

संस्था ने अपने सभी क्लास मेँ एक रूम मेँ सिर्फ 10 स्टूडेंट्स को बैठने की अनुमति दी है। संस्था मेँ प्रवेश से पहले सभी स्टूडेंट्स के मशीन से ट्मप्रेरेचर की जांच की जाती है इसके बाद उनको हाथों को सेनेटाइज़ कराया जाता है, इसके बाद मास्क के साथ क्लास में प्रवेश की अनुमति मिलती है।

कम फीस में अच्छी शिक्षा

संस्था के निदेशक भानू प्रताप सिंह ने कहा कि कोरोना काल के बाद हर अभिभावक आर्थिक रूप से प्रभावित हुआ है, इसलिए इस साल संस्था सभी कोर्स में 70 से 80 प्रतिशत के कटौती (माफ) के साथ स्टूडेंट्स को उच्च गुणवत्ता की शिक्षा देने के लिए वचनवद्ध है।

मौका होनहारों को 

यह संस्थान जहां एक ओर स्कॉलरशिप जैसी व्यवस्थाओं से गरीब छात्रों के लिये भी बेहतर पढ़ाई का विकल्प साबित हुआ है।वहीं, दूसरी ओर बेटियों को आगे बढ़ाने के लिये लगभग आधी फीस भी माफ कर रहा है। अगर आप छात्र हैं या अभिभावक तो निश्चित तौर पर आपको किसी ऐसे संस्थान की तलाश होगी, जहां सही गाइडेंस, बेहतर शैक्षिक माहौल और प्रापर तैयारी करायी जा सके, तो निश्चित तौर पर आप यहां पहुंच कर संतुष्ट नजर आयेंगे। 

2014 में हुई थी शुरूआत 

GRAB कोचिंग में निरीक्षण के दौरान हमारी टीम ने मुलाकात की इस संस्थान के निदेशक भानु प्रताप सिंह से और बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ तो वह सारी बातें भी सामने आयी, जो हर साल सैकड़ों की संख्या में सफल हो रहे युवाओं की कहानी कह रही थी। निदेशक भानु प्रताप सिंह  ने बताया कि बीएचयू के कारण वाराणसी में शैक्षिक माहौल का एक अलग ही इतिहास रहा है। देश, दुनिया में यहां से निकलकर टॉप पदों पर पहुंचे युवाओं ने इस शहर को सपनों का शहर बनाया है और उसी का क्रम आज लाखों छात्र जारी रखे हुये हैं। जब GRAB कोचिंग की शुरूआत 2014 में हमने शुरू की तो हमारा एक ही लक्ष्य था, किसी भी होनहार के सपने बिखरने नहीं चाहिये। यह सिलसिला 6 साल पहले शुरू हुआ था और सैकड़ों युवाओं की सफलता के साथ निरंतर जारी है। 

हर तरह से युवाओं को समर्पित 

GRAB कोचिंग के निदेशक भानु प्रताप सिंह बताते हैं कि यह संस्थान पर पूरी तरह से युवाओं को समर्पित हैं। यहां शैक्षणिक माहौल, गाइडेंस, अनुभवी व कुशल शिक्षक व सबसे खास बात बच्चों को क्या पढना है और क्या नहीं पढ़ना इसे उन्हें आत्मसात कराया जाता है। जिस दिशा में बच्चा जाना चाहता है, उस दिशा में ही तैयारी करायी जाये, इसके लिये एक पूरी टीम काम करती है और यही कारण है कि बच्चों की सफलता लगातार जारी है। 

सुविधाएं क्या हैं 

अगर आप भी अपने कैरियर की दिशा में एक सही गाइडेंस व कोचिंग की तलाश कर रहे हैं तो वाराणसी में GRAB कोचिंग आपके लिये शानदार विकल्प है। जहां छात्राओं के लिये फीस में 40 प्रतिशत तक की छूट देकर उन्हें हर हाल में आगे बढने के लिये प्रेरित किया जा रहा है। इसके अलावा होनहार व आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिये स्कॉलरशिप की भी व्यवस्था है, जो टेस्ट के माध्यम से होनहारों का चयन करते हुये प्रदान किया जाता है। जबकि आर्मीमैन के बच्चों को फीस में 80 प्रतिशत तक की छूट देकर संस्थान देश के प्रति जवानों के समर्पण और कर्तव्य पर नमन करता भी नजर आता है।  

Courses Offered for you.

1 — आईआईटी जेई (मेंस+एडवांस)
2 — नीट 
3 — फाउंडेशन (11-12) 
4 — प्री फाउंडेशन (9 -10) 
5 — बीएचयू बीएससी इंट्रेस एक्जाम क्रैस कोर्स ( maths/Bio/Ag)
6 — नर्सिंग इंट्रेस एक्जाम 

बीएचयू बीएससी इंट्रेस में श्रेष्ठता 

हर साल हजारों की संख्या में युवा बीएचयू में पढने के लिये इंट्रेस एग्जाम में बैठते हैं। उनमें बीएससी करने और शानदार कैरियर की ख्वाहिश हर साइंस ग्रुप का छात्र अपने जहन में रखता है। क्योंकि यहां से ग्रेजुएट होने का मतलब है कि कैरियर की उंचाई बहुत शानदार होगी। लेकिन, इंट्रेस परीक्षा का सैलेबर्स और रणनीति को लेकर युवा हमेशा असमंजस में रहते हैं और अपने सपनों की पहली ही सीढ़ी पर रूक जाते हैं और उन्हें अच्छे अंक न मिलने के कारण बीएचयू में एडमीशन नहीं मिल पाता। लेकिन पिछले 6 सालों से GRAB ने बीएससी इंट्रेस एक्जाम को क्रैक करने में खुद की श्रेष्ठता साबित की है और सैकड़ों की संख्या में यहां से तैयारी करने वाले छात्रों ने इंट्रेस परीक्षा पास कर बीएचयू से ग्रेजुएशन शुरू किया है। और अब एक बार फिर से GRAB ने बीएससी इंट्रेस एक्जाम के लिये  क्रैस कोर्स और नर्सिंग इंट्रेस एक्जाम का नया बैच शुरू किया है।