'पब्लिक प्लेटफ़ॉर्म'

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क ।  उनका सबसे पसंद का नाश्ता सूजी ब्रेड आमलेट+Healthy drinks जब भी मैं याद करती हूं तो पापा मेरे पास होते हैं और उन्हीं के लिए चार लाइन में बोलती हूं.जब जब हेल्प करते हैं तो कहते हैं।  क्योंकि अब पापा मेरे पास नहीं . सपने में आते है और कहते जाते हैं- कोई Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Admin

पापा मिटा दे जो आपकी यादें  बोलिए वो जिगर कहाँ से लाऊं  पापा आपसे होकर दूर  बोलिए मैं कैसे न बिखर जाऊं  जब कभी आती हैं आपकी याद  मैं भागती हूँ इस सच से कि आप अब नहीं रहे हमारे बीच  आप दूर बहुत चले गये सबसे  पर पापा आप ही आप आते है नजर मैं जिध Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Shivangi Agarwal

जाने क्यों लोगो के बदल जाने पर, मन का मौसम ठहर जाता है बदलना प्रकृति का शाश्वत नियम है,  रात दिन में दिन रात में बदलता है सर्दी गर्मी बरसात नियम से आते जाते हैं..... नियमों के भंग होने का भी,  नियम उतना ही सत्य है! Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। कुछ लोग आपके ना होकर भी आप पर यक़ीन कर जाते है। कुछ लोग आपके होकर भी आपकी कद्रर नहीं कर पाते है। कुछ लोग अपने फायदे के लिए आपका साथ देते है। और कुछ लोग बेवजाह आपके होसलोन को उड़ान दे जाते है। कैसी ये दुनिया है और कैसे ये लोग है। Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Abhishek seth

जाने कितने गम हैं जानने को अभी  कितने रास्ते हैं चलने को अभी और धूप में गुज़री ये सारी जिंदगी जिनकी  हाँ वक़्त है छाँव आने में अभी और ! ख्यालों से जो बना लिया है इक घर मैंने सुना हैं उस घर मे आने वाले हैं कई और ! वो किस्से किसी से हम न कह सके ! वो किस्से अभी जी रहा है कोई और ! जिनकी रातें र Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Abhishek seth

मैं चिता जला कर आया हूं, रिश्तों की यादों की सपनों की और खुद की भी। मैंने छोड़ दिया है डूब के जीना खुल कर हंसना कविता पढ़ना और कलम भी मैं कौन हूं? साधु हूं औघड़ हूं योद्धा हूं और डरपोक भी। मुझे जाना है कहीं दूर क्षितिज पर अपने संसार मे Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh