'पब्लिक प्लेटफ़ॉर्म'

by Vineet dubey

फीचर्स डेस्क। देवी माँ की तस्वीर के सामने बैठी रिद्धि, दुर्गा सप्तशती का पाठ कर रही थी । उधर खिड़की के बाहर, पंख फड़फड़ाने की आवाज के साथ, शीशे पर चोंच से टकटकाने की आवाजें भी आ रही थीं। इन सबके बीच वह अपने मन को एकाग्र करने की कोशिश कर रही थी । जब से वह लंदन आई थी, सब कुछ कितना बदल गया था । माँ, पापा, दोस्त और घर के पास व Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by manish shukla

जब सभी एकबार फिर सिंधू की जीत और उत्सव की बात कर रहे हैं तो याद दिला दूं..फिर सुना दूं..कभी कभी सफल औरत के पीछे कोई पुरूष भी हो सकता है। कहानी,सफलता त्याग और डेडिकेशन की.. कहते हैं कि हर सफल पुरुष के पीछे एक औरत होती है। लेकिन आज सिंधू की जीत के पीछे इस 'कंप्लीट मैन' की बात न हो तो सिंधू की जीत से अधिक उस Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by manish shukla

अजय श्रीवास्तव जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल ने राहुल गांधी के शंका जताने पर कहा था कि आप यहाँ आकर वस्तुस्थिति को देख लें, आप कहेंगे तो मैं सरकारी विमान आपको यहाँ लाने के लिए भेज दूँगा।आज आठ विपक्षी दलों के 11 सदस्यों का एक डेलीगेशन जम्मू-कश्मीर की स्थिति को जानने श्रीनगर पहुँचा मगर डेलीगेशन को श्रीनगर एयरपोर्ट पर हीं रोक लिया ग Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by manish shukla

मेरे मालिक मेरे ख़ुदा रखना, मेरे ऊपर भी तू दया रखना। बोलते हैं ये हर्फ़ मुझसे ही, बात करने का सिलसिला रखना। चलते रहना तू अपनी राहों में, इक नशा दिल में तू सदा रखना। पार कर लेगा पूरी वैतरणी, एक सिक्का ज़रा खरा रखना। फिर चहक जाएंगे परिंदे भी, ये घरौंदा यूँ ही खुला रखना। है क़ज़ा ही मिलेगी Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by manish shukla

उद्धव ने कृष्ण से पूछा- “जब द्रौपदी लगभग अपना शील खो रही थी तब आपने उसे वस्त्र देकर द्रौपदी के शील को बचाने का दावा किया लेकिन आप यह यह दावा भी कैसे कर सकते हैं ? उसे एक आदमी घसीटकर भरी सभा में लाता है और इतने सारे लोगों के सामने निर्वस्त्र करने के लिए छोड़ देता है! एक स्त्री का शील क्या बचा ? आपने क्या बचाया ? क्या यही धर्म है ?" Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by manish shukla

सर्वेश तिवारी श्रीमुख कभी सूरदास ने एक स्वप्न देखा था, कि रुख्मिनी और राधिका मिली हैं और एक दूजे पर निछावर हुई जा रही हैं। सोचता हूँ, कैसा होगा वह क्षण जब दोनों ठकुरानियाँ मिली होंगी। दोनों ने प्रेम किया था। एक ने बालक कन्हैया से, दूसरे ने Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh