'कहानी'

by Vineet dubey

फीचर्स डेस्क. इस एकांत कक्ष में निर्णायक मंडल के जज और  चार सदस्यों में मीटिंग चल रही थी. आज यहाँ दो महीने पहले घोषित ‘भारतीय संस्कृति बचाओ’ विषय पर राष्ट्र-स्तरीय काव्य प्रतियोगिता का अंतिम निर्णय होना था. सदस्यों ने पूरे देश से आई हुई प्रविष्टियों का गहन अध्ययन करके उत्कृष्ट रचनाओं के रचनाकारों  Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। “पूरे तीन साल बाद हम भारत, अपने घर जा रहे हैं, न जाने माँ-पिता कैसे होंगे”। उत्साह से भरपूर देवांश ने जाने की तैयारियों में लगी दक्षा को संबोधित करते हुए कहा। अमेरिका में जॉब लगने के बाद उनको लगभग 10 वर्ष हो चुके थे। इस बीच वे दो बच्चों के माँ-पिता भी बन गए। सात वर्षों तक तो वे हर साल भारत जाते Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by manish shukla

फीचर्स डेस्क। उस घुमावदार गुफानुमा बाजार से तगड़ी खरीदारी करने के बाद पसीने से लथपथ होतीं सुधा और सुरुचि बेहद थक चुकी थीं। प्यास से बेहाल होकर बाहर आकर इधर उधर नज़र दौड़ाई तो आसपास कोई होटल नज़र नहीं आया, न ही उनमें ढूँढने की शक्ति बाकी थी लेकिन सड़क के उस पार छाया में एक कतार में कुछ ठेलागाड़ियाँ देखकर गला तर करने की उम्मीद Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by manish shukla

फीचर्स डेस्क। रमाकांत के यहाँ बहुत चहल पहल है। दीपावली नहीं है फिर भी घर को दीपावली की तरह सजाया गया है। मित्र, परिचित, रिश्तेदार सभी उन्हें बधाई देने आ रहे हैं। रमाकांत बधाई स्वीकारते हुए खुशी खुशी सबका मुंह मीठा करा रहे हैं। खुशी की बात तो है ही, दो कन्याओं के बाद रमाकांत को पुत्र रत्न की प्राप्ति जो हुई है। बेटियाँ Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

फीचर्स डेस्क।  “एक बात बताइए योगिता जी, जब हमारी शादी तय होकर सगाई की रस्म भी पूरी हो चुकी है, तो फिर आपके माँ-पिता ने हमें बाहर घूमने जाने की अनुमति क्यों नहीं दी? अगर उन्हें अपने होने वाले दामाद पर विश्वास नहीं तो विवाह के बाद अपनी बेटी के भविष्य के प्रति वे आश्वस्त कैसे हो सकते हैं?” Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by manish shukla

फीचर्स डेस्क। रंडी-एक शब्द जिसे महिलाओं के लिए विवादों में, झगड़े के दौरान अक्सर इस्तेमाल होते देख मन चोटिल होता है। इस शब्द की महत्ता कितनी है आप सब भी पढ़ें। मेरी नौकरीपेशा माँ जो एम.एन. सी. में एच. आर. के पोस्ट पर काम करती है, उनसे पिताजी को अक्सर लड़ते हुए देखा है। वैसे तो मुझे आदत हो गई है इन लड़ाइयों की, फिर भी मन Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh