'विशेष पर्व'

by Focus24 team

वाराणसी सिटी। इस साल काल भैरव जयंती 29 नवंबर यानी बृहस्पतिवार को मनाई जाएगी। काल भैरव की पूजा में काल भैरव आरती का महत्व बहुत अधिक हैं। ऐसे में आप भी काल भैरव की पूजा करना चाहते हैं तो इस आरती को जरुर पढ़े- काल भैरव आरती Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

वाराणसी सिटी। कार्तिक पूर्णिमा और देव दीपावली के पर्व पर काशी में गंगा स्नान के लिए अस्सी ,तुलसी ,दशाश्मेध, राजेंद्र प्रसाद ,सिंधिया ,राजघाट समेत कई घाटों पर जनसैलाब उमड़ा है। शुक्रवार शाम को सीएम योगी और राजयपाल राम नाईक काशी की देव दीपावली आरती में शामिल होंगे। इस दौरान योगी लेजर और लाईटिंग शो का भी जायजा लेंगे। कमिश्न Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

लखनऊ। भगवान सूर्य जिन्हे आदित्य भी कहा जाता है सृष्टि के एक प्रत्यक्ष देव हैं। इनकी किरणों एवं रश्मियों से ही प्रकृति का संचालन तथा पृथवी के समस्त जीवधारियों मे प्राण का संचरण होता है। समस्त चराचर के पालन पोषण एवं सतत विकास के क्रम मे अन्न,फल,जल की उपलब्धता के साथ रसादि धातुओं के सम्यक पोषण के साथ शुक्र एवं अण्ड का निर् Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Priyanka Shukla

लखनऊ सिटी। छठ पूजा से सम्बंधित कई नियम व मान्यताएं हैं, हालांकि, समय के साथ-साथ इन नियमों में बदलाव होते जा रहे हैं। आइये, हम छठ से सम्बंधित प्रमुख नियम जानते हैं: 1. छठ पूजा के चार दिन घर पर मांस आहार, और लहसुन प्याज नहीं खाये जाते हैं। 2. इस Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

वाराणसी सिटी। आज से सूर्योपासना का महापर्व छठ पूजा शुरू हो गया। आज सुबह महिलाएं नहाय-खाय के बाद व्रत शुरू कर दी। बता दें कि 14 नवम्बर की सुबह उदयाचल सूर्य को अर्घ्य देकर व्रत का समापन करेंगी। छठ पूजा के सम्बंध में आचार्य बृजभूषण शर्मा ने बताया कि यह चार दिवसीय पर्व है। सूर्यषष्ठी वर्ष में दो बार किया जाता है। एक चैत्र म Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

लखनऊ सिटी। आज भाई दूज है यह फेस्टिवल दिवाली के बाद मनाया जाता है। यह भाई-बहन के बीच प्यार और स्नेह का होता है। भैया दूज के दिन शादीशुदा महिलाएं या बहनें अपने भाइयों के तिलक लगाकर भोजन कराती हैं। इसके साथ ही जो बहनें अपने भाईयों के साथ रहती है वह अपने भाई के साथ मिलकर खाना खाती हैं।  लोग यह भी मानते है कि इस दिन अगर भाई-बहन यमुना Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh