'विशेष पर्व'

by Focus24 team

कानपुर सिटी। सावन शिवरात्रि 2018 पर 5 मन्त्रों से शिव की पूजा करना बेहद शुभ फल देता है। देवों के देव महादेव को प्रसन्न करने के लिए सावन शिवरात्रि सबसे उत्तम दिन माना गया है। शास्त्रों के अनुसार देवाधिदेव शिव की पूजा-आराधना कुछ विशेष मंत्रों से करने पर महादेव अत्यंत शीघ्र प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों की हर मनोकामना पूरी करते हैं। सावन श Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Abhishek seth

नई दिल्ली। शिव पुराण के अनुसार शिवलिंग पर कई प्रकार की सामग्री फूल-पत्तियां चढ़ाई जाती हैं। इन्हीं में से सबसे महत्वपूर्ण है बिल्वपत्र। बिल्वपत्र से जुड़ी खास बातें जानने के बाद आप भी मानेंगे कि बिल्व का पेड बहुत चमत्कारी है- पुराणों के अनुसार रविवार के दिन और द्वादशी तिथि पर बिल्ववृक्ष का विशेष पूजन करना चाहिए। इस पूजन से व्यक्ति से ब्रह्महत्या जैसे महाप Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

नई दिल्ली। आज गुरुपूर्णिमा है। गुरुओं के लिए यह दिन अत्यंत विशेष है। आज के दिन गुरुओं को विशेष सम्मान दिया जाता है। वेदों और पुराणों ने भी गुरु की महिमा गायी है। केवल मानव ही नहीं अपितु ईश्वर ने भी गुरु को अपने से सर्वोपरि माना है। कभी-कभी तो ईश्वर ने गुरुओं के लिए प्रकृति के सारे नियम तोड़ दिए। आइए जानते हैं उस घटना के बारे में- द्वापर में श्री कृष्ण अपने Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Pratima Jaiswal

कानपुर सिटी। हमारे हिन्दू धर्म में इस (श्रावण) महीने का खास महत्व है। ज्योतिष और धर्म-कर्म एक्सपर्ट अनुसार यह साल भर का पहला ऐसा महिना है। जहा पुरे महीने बाबा भोले का आराधना किया जाता है।   मनोकामना के लिए प्रार्थना करते हैं Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Ananya Rawat

वाराणसी सिटी। आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा शुक्रवार को लगने वाला खग्रास चंद्र ग्रहण भारत में दृश्य होगा। भारत के अतिरिक्त यह ग्रहण अंटार्कटिका, ऑस्ट्रेलिया, रूस के सुदूर उत्तरी भाग को छोड़कर एशिया, अफ्रीका, स्कैंडेनेविया यूरोप, दक्षिण अमेरिका के मध्य और पूर्वी भाग में दिखाई देगा।  चंद्रास्त के समय ग्रहण का प्रारंभ न्यूज़ील Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Abhishek seth

वाराणसी सिटी। भगवान शिव को विश्वास का प्रतीक माना गया है क्योंकि उनका अपना चरित्र अनेक विरोधाभासों से भरा हुआ है जैसे शिव का अर्थ है जो शुभकर व कल्याणकारी हो, जबकि शिवजी का अपना व्यक्तित्व इससे जरा भी मेल नहीं खाता, क्योंकि वे अपने शरीर में इत्र के स्थान पर चिता की राख मलते हैं तथा गले में फूल-मालाओं के स्थान पर विषैले सर्पों को धारण करते हैं। वे अकेले ही ऐसे देवता Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh