'स्टोरी'

by Focus24 team

नई दिल्ली। कालयवन यवन देश का महाप्रतापी राक्षस था। उसे ब्रह्मा का वरदान था कि उसे कोई भी अस्त्र या शस्त्र मार नहीं पाएगा। उसने इसका लाभ उठाकर श्री कृष्ण को मारना चाहा। श्री कृष्ण उसकी योजना को भलीभांति जानते थे। उन्होंने युद्धस्थल से भागना ही उचित समझा।  जैसे ही वे जंगल की ओर बढ़े, कालयवन भी उनके पीछे भागने लगा। भागते भागते श्रीकृष्ण एक गुफा में पहुंचे, Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

नई दिल्ली। देवी सती ने स्वयं को अग्नि देव को समर्पित कर भस्म कर दिया। इससे क्रोधित हो महादेव ने अपने भयंकर स्वरूप वीरभद्र को सती के पिता दक्ष प्रजापति का वध करने भेजा। दक्ष विष्णु भक्त था। भगवान विष्णु ने उसे उसकी रक्षा करने का वचन दिया था। जब दक्ष भगवान विष्णु के सामने आया तो भगवान ने अपनी सेना भेजी। परंतु वीरभद्र के आगे कोई भी टिक नहीं पाया। भगवान विष्णु जानते थे Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Abhishek seth

नई दिल्ली। आज शनिवार है। इस दिन शनि की विशेष रूप से पूजा होती है। शनि की वक्र दृष्टि जिसपर पड़ जाए, वह व्यक्ति चारों ओर से संकटों से घिर जाता है।  तुलसीदास के महाकाव्य रामचरित मानस के अनुसार, हनुमान जी और उनके भक्तों पर शनि की वक्रदृष्टि का कोई प्रभाव नहीं पड़ता। दरअसल, त्रेतायुग में लंका का राजा रावण इतना बलशाली था कि उसने नवग्रहों समेत शनि देव को भी बंद Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Abhishek seth

नई दिल्ली। आज मंगलवार है। मंगलवार हनुमान जी को अत्यधिक प्रिय है। हनुमान जी की उनके प्रभु श्री राम के प्रति भक्ति अनन्य है। इनकी भक्ति से प्रसन्न होकर माता सीता ने उन्हें अमरता का वरदान भी दिया है। द्वापर युग में एक समय ऐसा आया जब भगवान को भी अपनी लीला करने के लिए भक्त की आवश्यकता आन पड़ी थी।  द्वापर युग में भगवान श्री कृष्ण के रूप में जन्मे थे। एक बार प् Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Abhishek seth

नई दिल्ली। हिंदू धर्म में बेलपत्र का विशेष महत्व होता है। माना जाता है कि अगर कोई व्यक्ति सच्चे मन से भगवान शिव की पूजा करता है और उन्हें बेलपत्र अर्पित करता है तो भगवान उसकी हर इच्छा पूरी करते हैं। क्या आपको पता है भगवान शिव पर बेलपत्र क्यों चढ़ाया जाता है और इसके पीछे क्या कहानी छिपी हुई है, अगर नहीं तो चलिए हम आपको बताते हैं ....... स्कंद पुराण के अनुसार, Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

कानपुर। रामभक्त हनुमान असीम शक्तियों के स्वामी हैं। वे अकेले ऐसे देवता हैं, जो कलयुग में राम नाम की भक्ति धरती के लोगों में जगा रहे हैं।  हनुमान जी भगवान शिव के 11वें अंशावतार हैं।  एक बार की बात है जब बाल्यकाल में हनुमान जी को भूख लगी। उन्होंने सूर्यदेव को एक पौष्टिक फल समझ लिया और वे उन्हें खाने के लिए आकाश मार्ग की ओर निकल पड़े। रास्ते में राहु औ Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh