'स्टोरी'

by Ananya Rawat

कानपुर सिटी। अक्सर अपने सुना होगा कि लोग बोलते हैं की पूजा-पाठ तो रोजाना करते हैं पर इसका कोई फल नहीं मिलता। दरअसल, इसके पीछे भी कुछ पुराणिक कारण हैं- धर्म –कर्म एक्सपर्ट राजेश शर्मा के अनुसार पूजा के दौरान की जाने वाली छोटी-छोटी कुछ ऐसी गलतियां होती है जिनके बारे में हमें नहीं पता होता है। जबकि हिंदू शास्त्रों में  बता Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Jyoti Patel

कानपुर सिटी। हमारे देश में मान्यता है कि किसी व्यक्ति की किस्मत उसके कर्म पर आधारित होती है। ऐसे में कहा जाता है कि जो व्यक्ति पूरी मेहनत से काम करता है उसे धन और समृद्धि मिलती है। वहीं जो व्यक्ति मेहनत नहीं करना चाहता उसको किसी भी काम में सफलता नहीं मिलती है। मेहनत के साथ ही कुछ ऐसे कार्य भी हैं जो व्यक्ति को प्रतिदिन करने चाहिए। इन कामो Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

नई दिल्ली। भगवान विष्णु दशावतारी हैं। वे समय समय पर धर्म की स्थापना एवं अधर्म के नाश के लिए इस धरती पर अवतार लेते रहे हैं। कालांतर में एक समय ऐसा भी रहा, जब भगवान विष्णु को एक ही परिवार के लिए तीन अवतार लेने पड़े थे।  सतयुग में हिरण्याक्ष और हिरण्यकश्यप नाम के दो राक्षस उत्पन्न हुए। हिरण्याक्ष को देवी देवताओं से नफरत थी। उसने धरती पर चारों ओर गन्दगी फैला Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Jyoti Patel

कानपुर सिटी। देवी पार्वती हिमनरेश हिमवान और उनकी रानी मैनावती की पुत्री हैं। पार्वती जी का विवाह भगवान शंकर से हुआ है। इन्‍हें पार्वती के अलावा उमा, गौरी और सती सहित अनेक नामों से जाना जाता है। माता पार्वती प्रकृति स्वरूपा कहलाती हैं। किंवदंतियों के अनुसार पार्वती के जन्म का समाचार सुनकर देवर्षि नारद हिमालय नरेश के Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Jyoti Patel

वाराणसी सिटी। वैसे तो ज्योतिष में शनि को क्रूर ग्रह ही माना गया है। लोगों में इसको लेकर हमेशा डर ही रहता है कि शनि हमेशा बुरा करता है। लेकिन, बहुत कम लोग ये जानते हैं कि शनि सिर्फ बुरा नहीं बल्कि एक अच्छा ग्रह भी है। जो जब शुभ प्रभाव देता है तो लोगों की जिंदगी बदल देता है। शनि कभी भी अनावश्यक परेशान नहीं करता है। वो सिर Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh

by Focus24 team

नई दिल्ली। माता वैष्णों की उत्पत्ति विष्णु अंश से ही हुई है। धरती पर इनका अवतार राक्षसों के संहार एवं वैष्णव धर्म की स्थापना के लिए हुआ था। मां वैष्णों त्रेतायुग में मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के समकालीन थीं।  मां वैष्णों भगवान की भक्त होने के साथ ही भगवान श्री राम से अटूट प्रेम करती थीं। वे चाहती थीं कि श्री राम उनसे विवाह करें। ऐसे में उनका जीवनकाल त Read more...

h h h h h h h h h hhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh h h h h h h h h h h hhhhhhhhhh