भविष्यवाणी 

Slider 1
« »
12th September, 2019, Edited by Focus24 team

फीचर्स डेस्क । "मुबारक हो आप फिर से माँ बनने वाली है" , रिपोर्ट देख डाक्टर ने जब ये कहा तो चेहरे पर खुशी के बजाय उदासी छा गयी नीलू के ! डबडबाई आँखों को छुपाती बिना कुछ कहे केबिन से निकल कार में जाकर बैठ गई ! राजीव भी सारी औपचारिकताओं को पूरा कर कार में आ गया । नीलू की उदासी की वजह वो जानता था ! इसलिए चुपचाप कार ड्राइव करने लगा ! सन्नाटे को तोड़ती नीलू बोली " राजीव मुझे नहीं चाहिए ये बच्चा " ! राजीव ने नीलू की तरफ देख बोला "मैं जानता हूँ नीलू क्यों" ? पर क्या पता इस बार चमत्कार हो जाये इसलिए समय का इंतजार करो ! तब तक घर आ गया !

कार से उतर फिर नीलू बोली कही फिर से ये कहते ही फिर आँखों में आँसू व निराशा छा गयी उसके ! "ईश्वर पर विश्वास रखो वो जरूर हमारी सुनेंगे इस बार" ! चलो अब मुस्कुराओ और सारी चिन्तायें छोड़ दो ! राजीव हर तरह से ख्याल रखता उसका पर वो बेमन से अपना व गर्भ के प्रति लापरवाही करती ! सब देख कर भी क्या करता राजीव न तो गर्भ गिराने के पक्ष में न था न ही गर्भजांच के पक्ष में ! समय बीतता गया तय समय पर नीलू ने एक सुंदर बच्चे को जन्म दिया ! होश में आते हक नर्स से पूछा "क्या हुआ है मुझे " तो नर्स ने कहा मुबारक हो आपको बेटी हुई है ! अविश्वास से वो कभी नर्स को तो कभी वही पास में बैठे पति राजीव को देखने लगी ! मानों उसने कुछ गलत सुन लिया हो ! अर्धनिंद्रा में वो बैचेन होने लगी इस खबर से डाक्टर्स आये सबने समझाया पर वो न मानी तब राजीव ने गोद में उठा अपनी बेटी को उसे दिखाया और कहा तुम्हारी मुराद पूरी कर दी ईशवर ने चलो अब तो मुस्कुरा दो । बच्ची को गोद में ले फूट_फूट कर रोने लगी नीलू और अविश्वास से नन्ही जान को निहारने लगी मानो कोई चमत्कार हो ! पर संजीव पंडितों ने तो कहा था मेरे भाग्य में बेटी ही नहीं तभी तो मैं अपना ख्याल नहीं रख रही थी व गर्भ गिराना चाहती थी !

 "मैं जानता हूँ पर नीलू " पर ईश्वर पंडितों की भविष्यवाणी से ज्यादा लोगों के दिल देखते है तभी तो माँ स्वंय पधारी हैं तुम्हारे गोद में क्योंकि बेटियाँ सबके भाग्य में नहीं होती ! अभी वो बातें ही कर रहे थे कि तभी पांच साल का बेटा सोनू दौड़ता हुआ अपनी दादी के साथ आया और छोटी सी परी को देख माँ से शिकायत करने लगा _ " माँ भाई क्यों न लाई बहन क्यों लाई" ? ये मेरे सारे खिलौने छीन लेगी !

कंटैंट सोर्स : रूबी प्रसाद, वेस्ट बंगाल