2019 में मोदी जी बनेंगे दोबारा प्रधानमंत्री : पंडित नवीन पाण्डेय

Slider 1
« »
25th April, 2019, Edited by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। 2019 में नरेंद्र मोदी जी पुनः बनेंगे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 में गुजरात प्रांत के वडनगर के मेहसाणा में दिन में 10:50 बजे हुआ था। मोदी जी की जन्म कुंडली तुला लग्न एवं वृश्चिक राशि की है तथा उनका जन्म अनुराधा नक्षत्र के दूसरे चरण का है। ज्योतिषाचार्य पंडित नवीन पाण्डेय ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वर्तमान कुंडली के अनुसार चंद्र और गुरु इन दो ग्रहों का ऐसा योग बन रहा है जिसके कारण मोदी जी को दोबारा भारत का प्रधानमंत्री बनने से कोई रोक नहीं सकता। ज्योतिषाचार्य के अनुसार नरेंद्र मोदी की कुंडली में वर्तमान में चंद्र की महादशा एवं बुध का अंतर चल रहा है जहां चंद्र अत्यंत शुभ भाव कर्म स्थान का स्वामी होकर धन भागवत है।

वहीं बुध भाग्य स्थान का स्वामी होकर द्वादश भाव में उच्च राशि गत होकर शुक्र एवं केतु के साथ है। वहीं पंचम भाव का स्वामी शनि तथा लग्न का स्वामी शुक्र दोनों की युति एकादश भाव में है तथा पराक्रम भाव का स्वामी गुरु पंचम भावगत है छठे भाव में राहु एवं द्वादश भाव में केतु कुंडली में अरिष्ट नाशक योग बना रहे हैं। जिससे मोदी जी के राजनैतिक क्षेत्र में आने वाली बाधाएं दूर होती रहीं और उनके राजनैतिक जीवन में यह क्रम आगे भी बना रहेगा। पंडित नवीन पाण्डेय ने बताया कि मोदी जी की जन्म कुंडली से पता चलता है कि उनके ऊपर अभी कर्मेश चंद्र की महादशा चल रही है जो कि 19 जनवरी 2022 तक चलेगी इसी बीच ये भारत के दोबारा प्रभावशाली प्रधानमंत्री बनेंगे। सन् 2018 में जब गुरु का गोचर तुला राशि में था जो इन की राशि से 12 में अर्थात व्यय भाव में होने के कारण मोदी जी कुछ परेशानियों का अनुभव करते रहे। क्योंकि गुरु ही मोदी जी की कुंडली में राज्य स्थान का स्वामी है।

जिससे राजनैतिक क्षेत्र में बाधाएं उत्पन्न हुई परंतु जब से गोचर में गुरु वृश्चिक राशि में प्रवेश किए हैं। तब से मोदी जी के राजनैतिक क्षेत्र के लिए यह स्थिति विशेष अनुकूल एवं शुभ फल प्रदाय है। ज्योतिषाचार्य ने बताया कि भाजपा की कुंडली भी इस प्रकार है कि भाजपा भी मिथुन लग्न एवं वृश्चिक राशि की पार्टी है तथा मोदी जी की भी वृश्चिक राशि है। वृश्चिक राशि में गुरु का प्रवेश भाजपा एवं मोदी जी दोनों के लिए बेहद लाभकारी योग बना रहा है जिसके परिणामस्वरूप मोदी जी पुन: भारत के प्रधानमंत्री पद पर अवश्य सुशोभित होंगे। नोटबंदी जीएसटी महंगाई विपक्ष का वार विरोधियों द्वारा आलोचना एवं किसी विरोध के बाद भी मोदी जी को देश का प्रधानमंत्री बनने से कोई ताकत रोक नहीं सकती।

ज्योतिषाचार्य ने मानव जीवन पर पड़ने वाले ग्रहों के प्रभाव के साथ साथ मोदी जी की कुंडली में बनने वाले कई ग्रह राजयोगों की बात की और कहा कि पंचमहापुरुष राजयोग नीचभंग राजयोग महालक्ष्मी योग केदार योग एवं गजकेसरी योगों का निर्माण करने वाले ग्रहों की महादशा भोगकाल तक मोदी जी अवश्य प्रधानमंत्री बने रहेंगे। पंडित नवीन पाण्डये ने जीवन में भगवत कृपा एवं साधना का महत्व बताते हुए कहा कि सभी को अपनी ओर आकर्षित करना एवं प्रभावशाली वाणी बिना साधना के संभव नहीं है। उन्होंने मोदी जी की साधना के बारे में बताया कि मोदी जी सन् 1975 में आपातकाल के समय 2 वर्षों तक हिमालय की कंदराओं में वैराग्य भाव से रहकर तप साधना की है।

इसी साधना के बल पर चुनाव में जनसभा के दौरान जनता का दिल जीत लेते हैं।  तप साधना एवं पुरुषार्थ का फल कभी खाली नहीं जाता और हम सब गौरवान्वित महसूस करेंगे।  ऐसे धार्मिक प्रवृत्ति वाले प्रधानमंत्री से और जब देश का प्रधानमंत्री धार्मिक प्रवृत्ति वाला होगा तब धर्म से जुड़ी राजनीति होगी और हम सब धर्म संगत और न्याय संगत रूप से राजनैतिक लाभ ले सकेंगे।

कंटेंट सोर्स : पंडित नवीन पाण्डेय (ज्योतिषाचार्य) सिद्धिदात्री ज्योतिष परामर्श केंद्र, वाराणसी। cont nob : 8127095503