अपने बच्चों में डालें ऐसी आदत, बोलेंगे लव यू मॉम!

Slider 1
Slider 1
« »
17th February, 2017, Edited by Renu mishra

लखनऊ। कहते हैं बच्चों की प्रथम पाठशाला घर से ही शुरू होती है। हमारे बच्चे अच्छा बुरा जो भी सीखते हैं वह घर से ही सीखते हैं। वहीं मां-बाप का सपना होता है कि उनका बच्चा आगे चलकर एक बड़ा अफसर बनें या फिर जिस भी क्षेत्र में जाएं वह सफल हो। ऐसे में आपकी भूमिका बहुत जरूरी है। तो आइए जानते हैं कि बच्चों कैसे संस्कार डाला जाया या फिर उनकी परवरिस कैसे की जाएं कि वह अपने लाइफ में सफल हों। 

 जिम्मेदारियां दें 

आपको बता दूं कि कुछ सीखने या करने के लिए जिम्मेदारी बहुत जरूरी होता है। जब इंसान के उपर जिम्मेदारी आती है तो वह अपने आप सेंशियर हो जाता है। ऐसे में आप अपने बच्चों को प्रतिदिन कुछ न कुछ काम सौंपे। वह काप घर का हो या फिर बाहर का हो। बस ध्यान यह रखें कि जो भी काम दें वह न केवल उनके पसंद का बल्कि आपके पसंद का भी होना जरूरी है। ऐसे में आपके बच्चे उस काम को करते हुए जिम्मेदारियां समझेंगे जो आगे चलकर उनके काम आएगी। 

क्रोध पर संयम बरतना सीखाएं 

आपका बच्चा है और किसी डिमांड पूरी न हो पाने के स्थित में थोड़ा गुस्सा तो होगा ही। ऐसे में आप उसे गुस्से को कैसे कंट्रोल करें यह जरूर सीखाएं। आप बच्चों यह जरूरी सिखाए कि गुस्सा न करने वाले अधिक सफल होते हैं। उन्हें यह भी बताएं कि बात बात पर गुस्सा नहीं किया जाता है। ऐसे में अगर वे किसी मुद्दे पर वे फंस जाएं तो उससे बाहर निकलने की हिम्मत भी रखनी चाहिए।

निगेटिविटी से बचाएं 

आपका बच्चा परीक्षा में अच्छा माक्र्स नहीं ला पाया जो आप उसको डांटने के बजाय अगली बार अच्छे माक्र्स लाने के लिए प्रेरित करें। वह खेल में हार गया और निराश है तो उसे हिम्मत दें। इसी तरह से जब भी वह किसी वजह से निराश हो उसे समझाएं इससे उसके अंदर निगेटिविटी नहीं आएगी। 

स्ट्रगल करना सीखाएं 

आपको बता दें कि कुछ बच्चों में स्ट्रगल करने की क्षमता बिल्कुल नहीं होती है। ऐसे में आप अपने बच्चों को विपरित परिस्थितियों में भी कैसे संयम से रहें और कैसे आने वाले उन कष्टï के दिनों से सटिफाइज करें यह जरूर सिखाएं। यदि आप ऐसा करने में सफल होती हैं तो समझ लिजिए आपको बच्चा आगे चलकर जरूर सफल होगा। 

रिलेक्स का ध्यान रखें 

आपका बच्चा पढ़ते-पढ़ते या काम करते हुए थक जाता होगा यह समझना होगा। ऐसे में आप उसे रिलेक्स का थोड़ा टाइम जरूर दें। उसे खेलने के लिए प्रेरित करें ऐसे में वह रिफ्रेश हो जाएगा। साथ ही आप उसे अच्छी कहानी सुनाएं या अच्छी कहानियों की किताब पढऩे के लिए दें। ध्यान रखें कि यदि बुक प्रेरित करने वाली स्टोरी की हो तो बच्चों के लिए ज्यादा बेहतर होगी।