Teachers Day Special: आज के इन गुरुओं का भी है आपके लाइफ में बड़ा रोल !

Slider 1
« »
4th September, 2018, Edited by Pratima Jaiswal

कानपुर सिटी। आज के दौर में स्टडी और जॉब के लिए अपने घर परिवार से दूर रहते हुए अकेले जिंदगी जीने के लिए खुद से निर्णय लेने पड़ते हैं। वे सभी एक्सपीरिएंस किसी टीचर से कम नहीं हैं।  हर साल 5 सितम्बर को भारत के राष्ट्रपति रहे डॉ।  सर्वपल्ली राधकृष्ण के जन्मदिवस को शिक्षक दिवस यानि टीचर्स डे के रूप में मनाते हैं।

ज्ञान लेने की प्रक्रिया दोनों तेजी से बदल गए

बता दें कि अपने जीवनकाल में उन्होंने कहा था कि हमें जिंदगी में सही गलत का पाठ पढ़ाने वाले गुरुओं को साल का एक दिन उनके नाम करना चाहिए।  और यहीं से शुरू हो गया हर साल 5 सितंबर को टीचर्स डे, 5 सितम्बर को हम हमेशा से ऐसे गुरुओं या टीचर्स को याद करते हुए मनाते हैं जिन्होने हमें स्कूल या कॉलेज में पढ़ाया होता है। वक्त बदला तो गुरू और ज्ञान लेने की प्रक्रिया दोनों तेजी से बदल गए।

इनको भी टीचर की दर्जा दे सकते हैं

आज सोशल मीडिया के जमाने में ऐसी कई चीज हैं जो हमारी रोजमर्रा की जरूरतों तो काफी आसान बनाती हैं यही नहीं बल्कि हमें सही गलत में जानकारी भी देती हैं।  ऐसे में आप साधारण सी दिखने वाली चीजों को भी टीचर की दर्जा दे सकते हैं।

गूगल ब्राउजर

सुबह आँख खुलने से लेकर रात में सोने तक गूगल ब्राउजर हमारी सबसे अधिक हेल्प करता है और हर तरह की जानकारी देता है।  दुनिया की शायद ही ऐसी कोई जानकारी हो गूगल पर न हो।  ऐसे में गूगल को इस टीचर्स डे पर याद कर उसे स्पेशल फील कराना तो बनता है।

ऐसा दोस्त जो आपको गाइड करता हो 

आप इस टीचर डे पर अपने उस खास दोस्त को याद कीजिए तो ऐन वक्त पर एग्जाम से पहले आपको गाइड करता है। ऐसा दोस्त स्कूल या कॉलेज किसी का भी हो सकता है। लाइफ में हर समय किसी का साथ मिले ये जरूर नहीं है। इस बार इस टीचर डे पर खुद से लिए गए फैसलों को याद कीजिए और अकेले घूमने के एक्सपीरिएंस को याद करते टीचर्स डे मनाइए।