… ... तो इसलिए महिला पुलिस कर्मियों को नहीं दी जाती फील्ड जॉब !

Slider 1
« »
3rd April, 2019, Edited by Shikha singh

फीचर्स डेस्क। पिछले दिनों बीबीसी में एक खबर छपी जिसके अनुसार महिलाये अगर पुलिस में भर्ती होती हैं तो उन्हें बहुत कुछ झेलना पड़ता है। एक आकड़े के अनुसार देश में करीब 1,7722, 786 पुलिस अफसर हैं।  जिनमें से 105, 325 महिलाएं हैं। अगर इस आकड़ें को प्रतिशत में निकाला जाय तो सिर्फ 7.28 प्रतिशत महिलाएं पुलिस में सेवा दे रहीं हैं।

कहा जाता है महिलाएं देश की आधी आबादी हैं जबकि पुलिस में इनकी हिस्सेदारी सिर्फ सात परसेंट ही है। लेकिन सबसे बड़ी बात ये है कि आखिर वजह क्या जो इनकी संख्या इतनी कम है। तो एक सर्वे के मुताबिक और बीबीसी से यूपी की डीजीपी रेणुका मिश्रा ने कहा था कि दरअसल, ये जॉब पुरुषो के लिए बनाया गया था, जिसके कारण हर चीज पुरुष के अनुसार निर्धारित की गई थी।  

ऑफिस जॉब अधिक

आपको बता दें कि 2016 में हुई ‘नेशनल कॉन्फ्रेंस फॉर विमन इन पुलिस’ के दौरान एक स्टडी की गई थी जिसमे महिला पुलिस से ड्यूटी टाइम में उनको होने वाली परेशानियों के बारें में पूछा गया था। जिसको बाद में महिला पुलिस कर्मियों ने बताई थी।  

01 परसेंट ही बड़े पोस्ट पर

आपको बता दें की इन सब के अलावा एक बात और सामने आई थी कि सिर्फ 01 परसेंट महिलाएं हायर पोस्ट पर हैं। इनमे से 90 परसेंट महिलाएं कास्टेबल से ही रिटायर हो जाती हैं।  

टॉयलेट सबसे बड़ी प्रोब्लम

महिला पुलिस को डेस्क जॉब देने के पीछे जो सच्चाई निकल कर आई है। वह यह है कि जहा भी इनकी ड्यूटी लगती है वहा प्रॉपर टॉयलेट की सुबिधा न होने से इनको बहुत समस्या होती है। ऐसे में महिला पुलिस कर्मी पानी कम पीती हैं, जिससे आगे चलकर कई रोग हो जाते हैं तो कभी विहोश भी हो जाती हैं।