... तो अब निजी मेडिकल कॉलेजों में नीट से दाखिला, 50% सीटों की फीस सरकार तय करेगी

Slider 1
« »
9th October, 2019, Edited by Shivangi Agarwal

एजुकेशन डेस्क। एम्स और जेआईपएईआर सहित देश में सभी मेडिकल कालेजो के एमबीबीएस कोर्सो में 2020 से कामन नेशनल एंट्रेंस टेस्ट नीट के जरिये ही दाखिला होगा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने शुक्रवार को इसकी घोषणा की। फिलहाल एम्स और जवाहरलाल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (जेआईपएईआर) के अलावा सभी मेडिकल कालेजो में नीट के जरिये ही दाखिला होता है।

2020 के अकादमिक सत्र से नेशनल मेडिकल कमीशन कानून लागू होने के बाद एम्स और जेआईपएईआर जैसे राष्ट्रीय महत्व के संस्थान भी नीट और एमबीबीएस की कामन काउंसिलिंग के दायरे में आ जाएंगे। हर्षवर्धन ने कहा कि इससे देशभर में चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में समान मानक स्थापित करने में मदद मिलेगी। नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) बनने के बाद देश के सभी प्राइवेट मेडिकल कॉलजो  की 50% सीटों की फीस एनएमसी ही तय करेगा। लेकिन सरकार ने स्पष्ट संकेत दिए हैं कि अलग-अलग कॉलेजों की फीस अलग रह सकती है। हर्षवर्धन ने कहा कि प्राइवेट मेडिकल कॅलेज की क्षमता और संसाधनों के अनुसार ही फीस तय होगी। निजी कालेजो की 50% सीटों की फीस सरकार तय करेगी।