sunday special : ...जब स्ट्रीट डॉग्स और एनिमल की सांता बन गई साधना वर्मा

Slider 1
Slider 1
« »
1st April, 2018 - 1:08 PM, Edited by Neeraj tripathi

वाराणसी सिटी। कुछ लोग बने ही होते हैं दुसरे के लिए जीने को। एक तरफ जहाँ इंसान दिन भर की दौड़ भाग के बाद अपने और अपने परिवार के लिए ईमानदारी से दो वक्त की रोटी जुटाने में लगा है। वहीँ सिटी के बड़ी गैबी महमूरगंज की सिंगल मदर साधना वर्मा अपने आसपास के स्ट्रीट डॉग्स के लिए किसी सांता क्लाज से कम नहीं है। तो आइये जानते है साधना वर्मा की इन जानवरों से प्रेम करने का कारण और इनकी देखरेख तरीके को।  

कौन है  साधना वर्मा

साधना वर्मा एलआईसी और पोस्ट ऑफिस में एजेंट का काम करती हैं और पिछले पांच सालो से ये इस नेक काम में लगी हैं. इनका काम सिटी के अन्य महिलाओं को प्ररेणा देने के लिए काफी है.

सुबह की सुरुआत खोजना

साधना वर्मा की सुबह की शुरुआत इन बेजुबान डॉग्स के आसपास से शुरू होती है। इनको भोजन, दवा और इनकी साफ-सफाई के बाद ही दूसरा काम करती हैं।  

इनकी आहट को पहचानते हैं डॉग्स

बता दें की जब साधना वर्मा घर से निकलती हैं तो इनकी आहट को ये डॉग्स समझ जाते हैं और आकर इनको एक माँ की तरह घेर लेते हैं।  फिर क्या मजाल इनके आसपास कोई इन्सान भटक जाय। प्यार तो इतना की क्या कोई इंसान करेगा इतना।  

गाय और सांड भी इनकी सेवा के हैं मुरीद

स्ट्रीट डॉग्स ही नहीं रोड पर भूख के कारण टहल रहे गाय और सांड का इलाज और भोजन देना इनका रूटीन वर्क में शामिल है।  जगह – जगह बैठे गाय और सांड इनकी आने का इंतजार करते रहते हैं।  

घर में बना रखी हैं इनका आसरा

साधना वर्मा बाहर के साथ – साथ अपने घर में भी इन बेजुबानो को आसरा देती हैं जब ये पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं तो किसी को दे देती हैं या फिर कॉलोनी में छोड़ देती हैं पर इनकी देख – रेख करती रहती हैं।  

इस संस्था की हैं वलिंटीयर

साधना वर्मा वाराणसी सिटी की Ramaiya Charitable Foundation की वलिंटीयर हैं। यह संस्था स्ट्रीट एनिमल पर काम करती है।  इस संस्था के काम को खूब सराहा जा रहा है।  इसके साथ ही इस संस्था के वलिंटीयर को लोग बड़ी इज्जत से सम्मान देते हैं।  

2012 से काम कर रही संस्था

स्ट्रीट डॉग्स और एनिमल को भोजन, दवा और सेफ्टी पर कचहरी स्थित गोविन्द नगर कॉलोनी की रहने वाली संस्था की सचिव स्वाति बलानी ने 2012 में शुरू किया तब से अब तक बिना किसी समस्या करवा बढ़ता जा रहा है। अब तक अनगिनत डॉग्स को सड़क से लाकर उनकी दवा कर उन्हें ट्रेनिंग दिया गया। अब वही डॉग्स लोगों के घरों में फैमली मेम्बर्स की लाइफ जी रहे हैं। संस्था के मेम्बर्स इन पर पूरे दिन निगरानी भी रखते हैं।

आप भी जुड़ सकते हैं

इस संस्था के साथ आप भी काम करना चाहते हैं और एनिमल से प्यार करते हैं तो इस संस्था के वाराणसी सेंटर इंचार्ज से मिलकर सदस्यता ले सकते हैं जो बिलकुल फ्री है और एक सप्ताह की ट्रेनिग भी दे जाती है।  Helpline nob - 9452781980