वेलेंटाइन स्पेशल : कितने लड़के तुमसे बात करने को तरसते थे ..

Slider 1
Slider 1
« »
7th February, 2019, Edited by Shikha singh

फीचर्स डेस्क। " लेट लतीफ " लड़की फोन रखने ही वाली थी की एक और नोटिफिकेशन ब्लिंक हुआ ..... आज आपकी पेन्टिंग देखी ....आज सच में बहुत बड़ी वाली कलाकार है ...

लड़की ने मुस्कुराकर शुक्रिया टाइप किया और साथ ही साथ आप कौन लिखकर बहुत सारे क्वेश्चन मार्क भी बना दिए ....

मतलब हमारे बीच इतना वक्त गुजर चुका है की तुम मुझे भूल गयी... यह मैसैस आने तक लड़की भी लड़के की डी.पी.देख चुकी थी ..और उसे तुरंत अपनी जल्दबाजी पर बहुत गुस्साया आया ...

लड़की ने जल्दी से टाइप किया ....

सॉरी तुम कोई भूलने की चीज़ हो क्या वो क्या है मेरे पास तुम्हारा नंबर सेव नहीं था और आज सुबह से बहुत से मैसेस आ रहे थे ...इसलिए जल्दबाजी में रिप्लाई कर गई ...।

हाँ तो कैसे होगा मैंने क्या कभी तुम्हें यह नंबर दिया भी था ...

कोई ना यह बताओ आज हमारी याद कैसे आ गई ...

अरे कुछ नहीं दोस्त आज इस शहर में ऑफिस के काम से आया था काम जल्दी हो गया ...।मेरी फ्लाइट में कुछ वक्त बाकी था तो पास वाली आर्ट गैलरी में चला गया जहाँ जा कर पता लगा कलाकार कोई और नहीं तुम हो वही से तुम्हारा नंबर लिया पर तुमसे मिल नहीं पाया क्योंकि तुम बस दो मिनट पहले ही वहाँ से निकल गयी थी ।

अच्छा यह बताओ कॉलेज टाइम में तुम कहाँ छुपी थी ..अगर मुझे पता होता कि तुम इतनी बड़ी कलाकार हो तो ....

तो ...????  

तो क्या ???

परपोज कर देते .. लड़की का एक जानदार कहकहा फिजां में मुस्कुराया ...

हाँ तो और क्या मैं कितना लकी होता ना अगर तुम मेरी जीवन साथी होती .. लड़की एक बार फिर दिल से मुस्कुराई और बोली ..

टोपा हो का ....।

सोलह साल गुजर गए पर तुम बिल्कुल नहीं सुधरे... लड़के ने तभी लड़की की बात बीच में काटी और बोला... " अच्छा यह बताओ तुम्हें सार्थक याद है ...???"

 हाँ याद है ना क्यों क्या हुआ उसे ..

अरे उसे कुछ नहीं हुआ ...पता है कॉलेज टाइम में वो तुम्हें कितना पसंद करता था ..हम सब उसके पीछे पड़े रहते थे पर वो कभी तुम्हें कुछ बोल ही नहीं पाया ..।

ऐसा नहीं है कॉलेज खत्म होने के बाद उसने मुझे सब बता दिया था ...

ओह रियली पर यह कब हुआ था ..और फिर अब तुम लोग साथ क्यों नहीं हो फिर ..

अरे जब उसने अपने दिल की बात बतायी .उस दिन मेरी मेहंदी थी और मुझे तब उसकी बात पर भरोसा भी नहीं हुआ था मुझे लगा था मेरी जैसी बहनजी टाइप लड़की को कोई कैसे पंसद कर सकता है ..।

स्टूपिड लड़की किसने बोला ??

बहनजी थी तुम जानती हो रौला था तुम्हारा कितने लड़के तुमसे बात करने को तरसते थे ..।

अच्छा क्या सच में ...???

लड़की ने लड़के से सवाल किया और साथ ही साथ अपनी कत्थई आँखो में झलक आये आसूँ को कस कर डाँट कर पलकों में रहने की हिदायत भी दे डाली..।

लड़की खोई खोई सी आवाज में बोली क्या तुम्हें पता है मैं भी कॉलेज के पहले दिन से किसी को पसंद करती थी ,पर उसे कभी कह नहीं पायी, अच्छा गेस करो कौन था वो ??

कौन हो सकता है प्लीज बता दो कम से कम अब तो ..... या अब भी पहेली ही पूछती रहोगी वैसे कही वो मैं तो नहीं था।

लड़का खिलखिलाता हुआ बोला।

अच्छा सुनो गुस्सा मत होना मजाक कर रहा था ..।। दो पल शून्य में विलीन हुए और फिर एक मैसैस फ्लैश हुआ ..।

हाँ जी वो तुम ही तो थे ।

कंटेंट सोर्स : नेहा अग्रवाल “नेह " लखनऊ सिटी।