ऐसे करें तैयारी तो PCS बनना तय 

Slider 1
Slider 1
Slider 1
Slider 1
Slider 1
Slider 1
« »
11th August, 2019, Edited by manish shukla

अमरीश मनीश शुक्ल
इलाहाबाद/ प्रयागराज : आज युवा सरकारी नौकरियों की तलाश में जुटा हुआ है। यूपी में तो सरकारी नौकरी के लिये खास मुहिम छिड़ी होती है। यहां सरकारी नौकरी का बकायदा एक ऐसा क्रेज है, जिसके लिये युवा अपनी पूरी जवानी पढ़ाई में लगा देते हैं। इन्हीं नौकरियों में अफसरगीरी का सबसे शानदार विकल्प नजर आता है, पीसीएस अफसर बनने का। यह एक ऐसा पद जो हर युवा के ख्वाब में एक न एक बार जरूर आता है। और, वैसा ही मौका एक बार फिर आ गया है। उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग ने 2019 व 2020 के लिये पीसीएस परीक्षा की तारीखों का ऐलान कर दिया है और पूरे उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से युवाओं के सपने पंख बांधने को आतुर हैं।  पीसीएस परीक्षा यानी प्रोविंशियल सिविल सर्विस, राज्यो द्वारा आयोजित होनें वाली प्रदेश स्तरीय सबसे बड़ी सिविल सेवा परीक्षा है । प्रत्येक राज्य में विशेष नागरिक सेवा पदों के लिए हर साल पीसीएस परीक्षा का आयोजन किया जाता हैं । पीसीएस अधिकारी राज्य सरकार की ए ग्रेड की सर्विस है। जिसमें उच्च वेतनमान के अलावा सरकारी भवन, वाहन तथा आवश्यकतानुसार कर्मचारी भी प्राप्त होते है । यह पद राज्य सरकार के आधीन है और इसमें चयनित अभ्यर्थी को प्रदेश के अंदर ही नौकरी करनी होती है। फिलहाल इस परीक्षा की तैयारी करने के लिये अगर आप भी मैदान में उतर रहे हैं तो इससे संबंधित पूरी जानकारी आपको आज हम यहां उपलब्ध करायेंगे। साथ ही किसी तरह से आप अपनी तैयारी का स्तर बनाकर इस परीक्षा को पास कर सकते हैं, उसके बारे में भी विस्तृत जानकारी देंगे। 

शैक्षणिक योग्यता 


 पीसीएस परीक्षा में शामिल होने के लिये अभ्यर्थी को किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री हासिल करनी आवश्यक होती है। इसमें किसी खास विषय की डिमांड कुछ पदों को लेकर अलग से की जाती है। लेकिन, सामान्यतः किसी भी स्पेशल विषय की योग्यता रखना आवश्यक नहीं है। पीसीएस परीक्षा में सम्मिलित होनें वाले अभ्यर्थी की आयु 21 वर्ष से 40 वर्ष के मध्य होना आवश्यक है। हालांकि आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को नियमनुसार छूट प्रदान की जाती है। राज्य लोक सेवा आयोगों द्वारा पीसीएस परीक्षा में कुछ विशेष पदों  जैसे पुलिस उपाधीक्षक, अधीक्षक कारागार आदि के लिये शारीरिक मापदंड भी निर्धारित किये गये हैं। जिसमें लंबाई 165.167 सेमी होनी आवश्यक है। जबकि सांख्यिकीय अधिकारी, बेसिक शिक्षा अधिकारी, लेखाधिकारी आदि के लिये भी विशेष शैक्षणिक योग्यता मांगी जाती है। इस परीक्षा में चयनित होने वाले अभ्यर्थी एसडीएम, डीएसपी, एआरटीओ, बीडीओ, जिला अल्पसंख्यक अधिकारी, जिला खाद्य विपणन अधिकारी, असिस्टेंट कमिश्नर व्यापार कर समेत विभिन्न विभागों में उच्च पदों पर नियुक्ति होते हैं। 

तीन चरणों में परीक्षा


यूपीपीसीएस की परीक्षा में तीन चरणों में होती हैं । पहली प्रारंभिक परीक्षा, दूसरी मुख्य परीक्षा व तीसरी साक्षात्कार। इसके बारे में आप डिटेल से जान लीजिये। इसमे पहले प्रारंभिक परीक्षा पास करनी होती है, जो कि बहुविकल्पीय प्रकार की होती है। प्रारंभिक परीक्षा के दौरान सीसेट का भी एक पेपर दिन की दूसरी पाल में होता है, जो क्वालीफाइंग होता है। यानी इसमें मात्र 33 प्रतिशत नंबर लाने पर आप पास मान लिये जायेंगे। जबकि प्रारंभिक परीक्षा में निर्धारित कटआफ के अंतर्न्गत आने वाले अभ्यर्थी ही सफल घोषित किये जाते हैं। लेकिन प्रारंभिक परीक्षा के अंक मेरिट में नहीं जुडते हैं। प्रारंभिक परीक्षा में सफल होने वाले अभ्यर्थी लिखित परीक्षा में शामिल होते हैं और लिखित परीक्षा में पास होने के बाद इंटरव्यू की प्रक्रिया से अभ्यर्थी को गुजरना होता है। इन तीनों चरणों के बाद फाइनल मेरिट बनती है और पदों के अनुसार मेरिट के अनुक्रम में अभ्यर्थियों का चयन किया जाता है। पीसीएस मुख्य परीक्षा के नये पाठ्यक्रम के अनुसार सामान्य अध्ययन के 4 पेपर होंगे और चारों पेपर 200-200 नंबर के होंगे। यानी सामान्य अध्ययन का पेपर 800 अंको का होगा। इसके अलावा हिंदी व निबंध का एक एक पेपर होगा, जिसमें 150-150 अंक मिलेंगे। जबकि वैकल्पिक विषय के तहत एक विषय होगा, जिसमें 200-200 अंक के दो पेपर होंगे। 

क्या है सिलेबस 


सामान्य अध्यक्ष के प्रथम प्रश्न पत्र में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की समसामयिक घटनाएंहोंगी। इसमें केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार के घटनाक्रमों के बारे में अधिकांश प्रश्न होंगे। जबकि एग्जाम से पहले की 2-3 महीनों की घटनाओं से भी सवाल आयेंगे। जिसमें महत्वपूर्ण तिथियों, पुरस्कारों, खेलों, पुस्तकों और लेखकों के बारे में प्रश्न पूंछे जाते हैं। इसमें अभ्यर्थी इस बात का खास ध्यान रखें कि घटनाओं से सम्बंधित पूर्ण विवरणसुनश्चित करें। क्योंकि अधिकांश समय तारीख के अलावा, स्थान, नाम आदि के सही मिलान पर प्रश्न आ जाता है। 

प्रारंभिक परीक्षा का प्रथम प्रश्न पत्र 


1 - प्राचीन भारत 
2 - मध्यकालीन भारत   
3 - भारतीय धार्मिक आंदोलन 
4 - आधुनिक भारत 
5 - भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन 
6 - भारत और विश्व भूगोल.
7 - भारतीय राजव्यवस्था और प्रशासन.संविधान

सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र 2 
1 -रिजनिंग
6 - दसवीं कक्षा के स्तर तक की गणित
7 - दसवीं स्तर तक की सामान्य अंग्रेजी
8 - तर्कशक्ति
9 - हिंदी 

मुख्य परीक्षा


1 - हिंदी - 150 अंक
2 - निबंध - 150 अंक
3 - सामान्य अध्ययन  - 200 अंक
4 - सामान्य अध्ययन - 200 अंक
5 - सामान्य अध्ययन - 200 अंक
7 - सामान्य अध्ययन  - 200 अंक
8 - वैकल्पिक विषय पेपर - 200 अंक
9 - वैकल्पिक विषय पेपर - 200 अंक

साक्षात्कार
1 - साक्षात्कार - 100 अंक 

 

सफलता के खास टिप्स 


1 - पीसीएस की तैयारी के लिये आत्मविश्वास और धैर्य सबसे अधिक आवश्यक होता है।  
2 - निरंतरता के साथ उच्च स्तर की मेहनत 
3 -  देश की नवीनतम घटनाक्रम और अंतर्राष्ट्रीय घटनाक्रम से हमेशा अपडेट रहें। 
4 - प्राथमिक स्तर से 12 वीं तक की एनसीईआरटी की पुस्तकें आवश्यक रूप से पढ़े । 
5 - हिंदी को मजबूत बनाये, व्याकरण की बेहतर समझ रखें। 
6 - निबंध लिखने का कौशल विकसित करें। इसके लिये खूब अभ्यास करें। 
7 - पिछलें कुछ वर्षों के प्रश्नपत्रो को जरूर हल करें। 
8 - यूपी के इतिहास और भूगोल की बेहतरीन जानकारी रखें। 
9 - सलेबर्स को पूरी तरह से पढ़े और रिवीजन करते रहें। 
10 - प्रमाणिक पुस्तकें ही पढ़े।