मंदिर में दर्शन करते वक्त न करें 5 गलतियां, खत्म हो जाते हैं पुण्य !

Slider 1
« »
9th June, 2019, Edited by Shikha singh

फीचर्स डेस्क। मन की शांति और पुण्य के लिए लोग मंदिर में भगवान का दर्शन करने किये जातें हैं। लेकिन मंदिर जानें पर कई बार जानें-अनजाने में कुछ ऐसी गलतिया हो जाती हैं जिससे मिलने वाला पुण्य तो कम हो ही जाता है बल्कि दोष भी लग जाता है। हलाकि छोटी-छोटी होने वाली इन गलतियों से लोग अनजान होते हैं। ऐसे में आइए जानते हैं कि मंदिर में किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

मंदिर में हँसे नहीं

आप मंदिर में दर्शन करने गए हैं तो यद् रखें कि वहा हँसे नहीं, दरअसल, पुराणों की मानें तो मंदिर में हंसना, जोर से बोलना किसी भी तरह का मनोरंजन मना होता है। इसके पीछे वजह जो बताई जाती है वह यह कि इससे लोगों के ध्यान में बाधा पड़ती है और आपको दोष लगता है।

किसी के आगे ना आए

आप मंदिर गए हैं और आपसे पहले वहां कोई भक्त खड़ा है लाइन में तो आप उसके आगे ना आयें और ना ही उसके सामने खडें हों।  

परिक्रमा कभी उल्टी ना करें

अक्सर लोग जब किसी मंदिर में दर्शन करने जातें हैं तो मंदिर के चरों तरफ परिक्रमा जरुर करते हैं। लेकिन आपको बता दें कि अज्ञानता बस उल्टी परिक्रमा करने से लाभ की जगह हानि होने की संभावना होती है। आपको बता दू कि हमेशा परिक्रमा उल्टे हाथ की तरफ से शुरू कर के सीधे हाथ की ओर खत्म करनी चाहिए।

बेल्ट पहनकर न करें दर्शन

आप मंदिर जा रहें हैं तो कमर में पहने हुए बेल्ट को बाहर ही खोल दें क्योकि चमड़े की चीजें पहनकर मंदिर में नहीं जाना चाहिए। दरअसल, चमड़े को अशुद्ध माना गया है। ऐसा करने से पाप लगता है।