Mains 2017-18: ऐसे रणनीति बनाकर करें सब्जेक्ट वाइज तैयारी

Slider 1
« »
7th October, 2017 - 10:34 AM, Edited by Focus24 team

नई दिल्ली। सिविल सर्विसेज (प्री) की परीक्षा स्वभाविक रूप से मेन्स के मुताबिक ज्यादा तथ्यात्मक होती है जबकि मेन्स परीक्षा के लिए गहरे विश्लेषण की जरूरत होती है। सवालों का जवाब बहुत विवरण के साथ देना होता है। सवालों के जवाब रूप में अभ्यर्थी जो कुछ भी लिखता है वह उसके व्यक्तित्व का प्रतिनिधित्व करता है। हाल के वर्षों में केंद्रीय लोक सेवा आयोग ने मेन्स की परीक्षा में कुछ खास बदलाव किए हैं। इन बदलावों को देखते हुए मेन्स में अच्छे अंक लाने के लिए एक व्यापक रणनीति बनाने की जरूरत है।

हर साल बड़ी संख्या में अभ्यर्थी कमजोर तैयारी या सही रणनीति के अभाव में मेन्स परीक्षा को क्लीयर करने में असफल होते हैं। जैसा का सामान्य अध्ययन के चार पेपरों में से प्रत्येक में 20-25 सवाल होते हैं। छात्र को इन सवालों के जवाब एक समय सीमा में देना होता है, ऐसे में मेन्स में सभी विषयों की व्यापक तैयारी के साथ ही लिखने का अभ्यास भी बहुत जरूरी है।

जो लोग सीएस मेन्स 2017 की तैयारी करने जा रहे हैं उन्हें अब पूरा फोक रिवीजन पर लगाना चाहिए। पिछले सालों के प्रश्न पत्र हल करने चाहिए। अब उनके लिए सवालों के जवाब लिखने का अभयास करने का वक्त है।

वहीं तो लोग सिविलि सर्विसेज मेन्स 2018 के लिए तैयारी कर रहे हैं उन्हें सही सोर्स से मेन्स की अध्ययन सामग्री की व्यवस्था करने की जरूरत है। जिससे कि वह अपने ज्ञान और मेहनत का उचित इस्तेमाल कर सकें। इन अभ्‍यर्थियों को हर विषय को लेकर गहन अध्ययन और अपना नजरिया स्पष्ठ करने की जरूरत है।

अपनाएं ये रणनीति-

1- करेंट मामलों से खुद को अपडेट रखें। (इसके लिए पिछले एक साल की गतिविधियों को ध्यान में रखते हुए समाचार पढ़ें, और बड़े मामलों पर फोकस करें। इसके लिए आप हिन्दू न्यूज का त्रैमासिक प्रकाशित होने वाल संकलन भी खरीद सकते हैं।

2- जवाब लिखने का अभ्यास करें, खासकर उन विचारों पर लिखने की कोशिश करें जो ताजा मामलों से जुड़ें हों और विषय को व्यापक रूप में कवर करते हों।

3- सभी वैकल्पिक विषयों की तैयारी करें। इसके लिए आप पिछले कुछ सालों के प्रश्न पत्रों को देखें और जो विषय अभी भी न्यूज में हों उन्हें जरूर एक बार देखें।

4- निबंध लिखने का अभ्यास करें। सप्ताह में कम से कम एक निबंध जरूर लिखें। निबंध से संबंधित ज्यादातर टॉपिक- गरीबी, बेराजगारी, घोर पूंजीवाद और स्वास्थ्य जैसे मुद्दों पर ध्यान देना होगा।

5- अगर दूसरी बार प्रयास कर रहे हैं तो पिछले साल की परीक्षा में हुई गलतियों की इस बार पहचान करें।

6- मेन्स के सामान्य अध्ययन क तैयारी करते हुए वैकल्पिक विषयों के लिए भी समय दें।