व्यवसाय में सफलता पाने के लिए चमत्कारी उपाय

Slider 1
« »
5th June, 2019, Edited by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। व्यापार सम्बन्धी पात्र व्यवहार करते समय उस पात्र पर हल्दी अथवा केसर के छींटे लगा दिया करे। व्यापार आदि शुभ कार्यो के लिए प्रस्थान करने से पूर्व घर का कोई भी सदस्य एक मुट्ठी साबुत काले उड़द आपके ऊपर से उसार कर धरती पर छोड़ दे तो कार्य अवश्य सिद्ध होगा।

कार्यालय, दुकान, शोरूम इत्यादि खोलते समय सर्वप्रथम अपने इष्टदेव का स्मरण अवश्य करे। धन सम्बन्धी या व्यवसाय सम्बन्धी कार्य पर निकलने से पूर्व "सिद्ध वांछी कल्पलता यंत्र" अपनी कमीज के ऊपरी पॉकेट में रखकर जाये, सफलता चरण चूमेगी, आजमाकर देखे।

"सिद्ध श्रीयंत्र" घर की पूजा स्थल पर स्थापित करे।

शुभ कार्य हेतु अथवा धन सम्बन्धी या व्यवसाय सम्बन्धी कार्य पर जाते समय घर से दही व गुड खाकर निकले तो सफलता साथ देगी।

सर्वप्रथम हिंजड़ों को वस्त्र व कुछ रूपये दान करे। उसे प्रसन्न कर एक रूपये का सिक्का प्रसाद रूप में उनसे मांग ले और वह सिक्का कैश - बॉक्स, तिजोरी आदि में रख दे तो व्यवसाय चमक उठेगा।

सिद्ध किया हुआ "श्वेत अपमार्ग" (ओंगा) की जड़ व्यवसायिक स्थल में रखने से व्यवसाय में अपार वृद्धि होती है।

मन्त्र सिद्ध "सफ़ेद आक की जड़" (शेवतार्क मूल) चांदी की ताबीज में, सफ़ेद डोरे के साथ गले या दाहिनी भुजा पर धारण करने से व्यवसाय में चार चाँद लग जाते है, आजमाकर देखे, चकित हो उठेंगे।

"श्वेतार्क गणपति" की प्रतिमा व्यवसायिक स्थल या घर की पूजा स्थल पर स्थापित करे।

"वट वृक्ष की लता" को शनिवार के दिन निमंत्रण दे आये। रविवार के दिन ब्रह्म मुहूर्त में जाकर उस की एक जाता तोड़ लाये। उस जटा को घर लाकर गूगल की धूनी दे, (गूगल का धुप जलाकर दिखाए) फिर कैश बॉक्स, तिजोरी या रूपये पैसे रखने वाले स्थान पर लाल कपडे में लपेटकर रख दे।

जिस स्थान पर होली कई वर्षो से जलाई जाती रही हो। वहाँ पर होली जलने से एक दिन पहले की रात्रि में एक मटकी में गाय का घी, तिल का तेल, गेंहू और ज्वार तथा एक ताम्बे का पैसा अथवा एक रुपया का सिक्का रखकर मटकी का मुख मिट्टी के कसोरे (ढकनी) रखकर बंद कर दे। 

मटकी का मुख बंद करके उसे होली जलने वाले स्थान पर ले जाकर जमीन में गाड़ दे। 

यह कार्य गुप्त रूप से करना चाहिए। दूसरे दिन रात्रि में होली जलने के बाद आग बिल्कुल ठंडी होने के बाद उस मटकी को उखाड़ लाये। फिर मटकी की जाली हुई सारी सामग्री को लाल कपडे में बांधकर धन स्थान में रखने से व्यवसाय में अपार वृद्धि होती है।

"उल्लू" वास्तव में "लक्ष्मी" का प्रतीक है। इसका प्रमाण आज भी है। जिन व्यवसायिओं ने इसका प्रयोग "व्यापार चिन्ह" के रूप में किया, उनका व्यवसाय आसमान छूने लगा।

दीपावली से पूर्व कभी भी किसी भी समय एक "उल्लू का पंख" प्राप्त कर ले। दीपावली की रात्रि उस पंख को लक्ष्मी की प्रतिमा या तस्वीर के तले लाल कपडे में लपेटकर रख दे।

 माता लक्ष्मी की पूजा उपासना के उपरांत उस पंख को लक्ष्मी जी की तस्वीर के नीचे से निकालकर, उसे कुतरकर, ताम्बे के प्लेट में रखकर पाथी (गोयठा) की आग पर जलाकर भस्म बना ले।

उस भस्म को लाल कपडे में बांधकर कैश बॉक्स, तिजोरी आदि जहाँ रुपयो को बांधकर रखने का स्थान हो, वंहा रख दे। जब तक यह "तिलस्मी भस्म की पोटली" आपके घर में रहेगी व्यवसाय चमकता रहेगा।

प्रत्येक माह के प्रथम बुधवार को ५ किलो अथवा ५ पाव अथवा ५ मुट्ठी साबुत हरे मूंग हरे रंग के कपडे में बांधकर बहती दरिया में प्रवाहित करे तो व्यवसाय बढ़ता रहेगा। खासकर जो लोहे का पार्ट्स तैयार करते है, किराने की दुकान, कोयला, लकड़ी, पेट्रोल, तेल जूते आदि व्यवसाय करते है, वे व्यवसायी नववर्ष के प्रथम शनिवार को आठ किलो, आठ पाव अथवा आठ मुट्ठी काले साबुत उड़द काले कपडे में बांधकर बहती दरिया में सूर्यास्त के बाद कुछ अँधेरा होने पर प्रवाहित करे, और शनिदेव का स्मरण कर नमस्कार कर वापस आ जाये। उपरोक्त विधि अपनाने से व्यवसाय चमकता रहेगा। अनुसंधानित है, आजमाकर देखे।

यदि फैक्ट्री व्यापार आदि ठीक नहीं चल रहा हो तो मुख्य दरवाजे के सामने पानी का फौहारा जरुर लगा दे। घंटे दो घंटे सुबह और दोपहर बाद उस फुहारे को चलाये तो व्यवसाय ठीक चलने लगेगा।

यदि फौहारा लगाने में असमर्थ है तो मज़बूरी में मग या जग से ऊपर की और पानी दरवाजे के ठीक सामने उछलकर गिरा दे। मुख्य दरवाजे के ऊपर "मछली का चित्र" भी बन्द कारोबार को चलाने में बड़ी सहायता करती है।

उसके साथ ही फैक्ट्री के मुख्य दरवाजे पर छोटे दर्पण, स्वास्तिक चिन्ह, घंटी, घूमती रंग - बिरंगी लाइट लगावे। बंद कारोबार चल पड़ेगा। फैक्ट्री या व्यवसायिक स्थल के मुख्य दरवाजे के बाहर यदि लाल इंटों को बिछाकर गोल रास्ता टेढा - मेढ़ा बना दिया जाये तो कारोबार चल पड़ता है।

मुख्य दरवाजे के बाहर एक - एक (दोनों तरफ) या तीन - तीन अथवा पांच - पांच खिले हुए फूल के गमले रख दे। यदि फैक्ट्री के पास में कब्र, शमशान, चर्च आदि है तो उस तरफ से फैक्ट्री की दीवार ऊँची करवा दे, उस तरफ से खिड़की, दरवाजे बंद करवा दे, वरना बिज़नेस तबाह हो जायेगा।

कंटेंट सोर्स : ज्योतिष गुरु ओम, बिलासपुर,   9685226701 ।।