नागपंचमी विशेषः सांपों को दूध पिलाने पर हो सकती है उनकी मौत

Slider 1
Slider 1
Slider 1
Slider 1
Slider 1
« »
5th August, 2019, Edited by manish shukla

न्यूज़ डेस्क ।  आज पूरे देश में नागपंचमी का त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। देश के कोने कोने में सुबह की पहली किरण के साथ नाग देवता के पूजन व शिवालयों में जलाभिषेक का क्रम चल रहा है। घरों और मंदिरों में सांपों के निमित्त दूध, लावा आदि चढ़ाया हा रहा है। मंदिर, चौराहे, पार्क, घरों के बाहर सपेरे पिटारों में सांप लेकर लोगों को दर्शन करा रहे हैं। इस दौरान सांपों को दूध भी मिलाने का प्रयास किया जाता है। लेकिन, क्या सांपों को दूध पिलाना चाहिय ? क्या सांपों के लिये दूध सही है ? इस प्रश्न के सवाल को लेकर कयी बार वैज्ञानिकों ने अध्यन किया और अपनी जांच में कुछ चौंकाने वाले राज उजागर किये हैं। वैज्ञानिक अध्यन के अनुसार सांपों को दूध पिलाना बेहद ही खतरनाक है, इससे सांपों की जान तक जा सकती है। 

सांपों को होगा डायरिया 

वन जीव संरक्षक अधिकारी विनोद कुमार बताते हैं कि नागपंचमी पर सांपों को दूध पिलाना आमधारणा है। लोगों ने इसे धार्मिक मान्यता दे रखी हे। लेकिन, सच यह है कि सांपों को दूध पिलाने से सांपों की जिंदगी खतरे में पड जाती है। कयी शोध के बात यह बात सामने आयी है कि अगर सांप दूध पीता है तो उसमें बेहद ही तेजी के साथ डायरिया की बीमारी फैलती है और उनकी मौत हो जाती है। ऐसे में सांपों को दूध ​नहीं पिलाना चाहिय। विनोद कुमार बताते हैं कि सांप पूरी तरह से मांसाहारी जीव होता है। उसके खाने के लिये प्रकृति चूहे, कीड़े-मकोड़े, छिपकलियां, मछलियां जैसी चीजें कहीं न कहीं से व्यवस्थति करता है। ऐसे में अगर सांप को दूध पिलाया जायेगा ​तो वह उसके लिये जहर सरीखा होगा और उससे उसकी मौत होने के बहुत अधिक संभावना है। 

क्या कहते हैं विशेषज्ञ 

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के जीव विज्ञान विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर अनिता गोपेश विभिन्न रिसर्च का हवाला देते हुये बताती हैं कि यह विभिन्न अध्यक्ष में स्पष्ट हो चुका है कि सांप पूरी तरह से मांसाहारी जीव होता है। ऐसे में वह चूहे, कीड़े-मकोड़े, छिपकलियां, मछलियां जैसी चीजें खाकर जीवत रहता है। ऐसे में अगर उसे दूध दिया जायेगा तो वह उसके लिये जहर बन जायेगा। वहीं, आयुर्वेदाचार्य डॉ.एसके राय भी सांपों को दूध पिलाने के बारे में कहते हैं कि सांप, दूध पीने पर मर जायेगा। क्योंकि दूध की प्रकृति अम्लीय व क्षारीय के बीच की है। जबकि सांप को सिर्फ वहीं चीजें जीवत रखती हैं, जो ना तो अम्लीय हो और ना ही क्षारीय। अगर ऐसे में सांपों को दूध दिया जायेगा और वह उसे पी लेंगे तो उनकी आंतों से इंफेक्शन होना और उनके मरने की संभावा बहुत अधिक हो जायेगी। साधरणत: वह ऐसी स्थिति में जिंदा नहीं बचते।