मेरी सोच : प्रेम कीजिये, यथावत रह कर....

Slider 1
« »
30th January, 2019, Edited by Focus24 team

फीचर्स डेस्क। आपका जीवन कोई परिवर्तित नही कर सकता। सिर्फ आप इसके निर्माता है। एक विचार आपका जीवन बदल सकता है, यही विचार आपके पूरे अस्तित्व का निर्माण भी करता है। नकारात्मक विचार और सोच के व्यक्ति आपको सिर्फ गलत ही दे सकते है। सही सोच और सकारात्मक दृष्टिकोण के व्यक्तित्व आपके स्वयं के लिए भी सही साबित होंगे।

जीवन को अपने विचार की गति से गतिमान कीजिये। सभी डिग्रियां इस ज्ञान के बाद है, की आप स्वयं के होने को जान रहे है,  सही विचारों की सही कड़ी आपको बौद्धिक विकास की राह पर ले चलेगी। प्रेम कीजिये, यथावत रह कर, स्वीकार भाव से किसी को बिना परिवर्तन के परोपकार कीजिये बिना उससे किसी स्वार्थ के सद्भाव बनाइये क्योकि मात्र देने में ही मन की शांति मिलती है। फिर देखिए मन के बागवान में खुशियां अभिव्यक्ति बन कर फूटेंगी। क्योकि विचारों का बदलाव आपका मूल परिवर्तित करने की ताकत रखता है।

कंटेंट : नीलिमा ठाकुर, नई दिल्ली।