क्या है ग्रीन टी पीने का सही समय, जानें, बनाने की विधि

Slider 1
« »
7th June, 2019, Edited by Focus24 team

हेल्थ डेस्क। भारत में लोग चाय का सेवन हजारों सालों से करते आये हैं। हाल ही में चाय की एक नयी प्रजाति जिसे ग्रीन टी अथवा हरी चाय कहा जाता है, का प्रचलन काफी बढ़ गया है। ज्यादा से ज्यादा लोग साधारण चाय छोड़कर ग्रीन टी की और बढ़ रहे हैं। हरी चाय एक प्रकार की चाय होती है, जो कैमेलिया साइनेन्सिस नामक पौधे की पत्तियों से बनायी जाती है। इसके बनाने की प्रक्रिया में ऑक्सीकरण न्यूनतम होता है। इसका उद्गम चीन में हुआ था और आगे चलकर एशिया में जापान से मध्य-पूर्व की कई संस्कृतियों से संबंधित रही। इसके सेवन के काफी लाभ होते हैं

ग्रीन टी मुख्य रूप से शरीर के लिए काफी फायदेमंद और स्वस्थ होती है। यह शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाती है और वजन नियंत्रण करने में मदद करती है। रोजाना 1 से 2 कप ग्रीन टी पीने से शरीर स्वस्थ रहता है और पाचन क्रिया मजबूत रहती है।

ग्रीन टी क्या है

ग्रीन टी को हरी चाय भी कहा जाता है। ग्रीन टी को कैमेलिया साइनेन्सिस नाम के पौधे की पत्तियों से बनाई जाती है। भले ही ग्रीन टी का विकास पश्चिमी देशों ने किया हो लेकिन भारत की भूमि में भी ग्रीन टी की बहुत अच्छी पैदावार होती है। ख़ासकर असम, मेघालय के पहाड़ो और जंगली क्षेत्रों में इसकी खेती की जाती है। इस लेख के जरिये हम ग्रीन टी बनाने की विधि के बारे में चर्चा करेंगे।

वैसे तो ग्रीन टी बनाने की कोई ख़ास विधि नही होती है। लेकिन हम ग्रीन टी को तीन से चार प्रकार से बना सकते है। जिस प्रकार से हम चाय बनाते है उसी प्रकार से ग्रीन टी बनाते है बस फर्क इतना होता है कि सिम्पल चाय में दुध और चीनी डालते है और इसमें दुध और चीनी नही डालना होता है।

साधारण ग्रीन टी की सामग्री विधि

पानी – डेढ़ कप

इलायची – दाने या पीसी हुई

शहद/चीनी – स्वादुसार

ग्रीन टी – ग्रीन टी की 3 से 4 पत्तियां

विधि – एक भगोनी में डेढ़ कप पानी लें, उसे उबाले फिर उसमें साबूत इलायची कूट कर या इलायची का पाउडर भी डालें। उसके बाद ग्रीन टी की पत्तियां डाले और स्वादुनसार चीनी या शहद भी डाल सकते है। फिर कुछ देर के लिए उबलने के लिए छोड़ दें। तीन से चार मिनट बाद उसे गैस पर से उताकर छान लें। आप उसे गर्म भी पी सकते है या फिर उसे थोड़ी देर ठन्डा करने के बाद भी पी सकते है।

नींबू का रस मिलाकर ग्रीन टी बनाना

सामग्री – 1/2 चम्मच हरी चाय पाउडर

1 कप पानी

2 चम्मच शहद

1/2 टुकड़ा नींबू

विधि

एक बर्तन में पर्याप्त मात्रानुसार पानी लें। उसके बाद उसमें ग्रीन टी का पीसा हुआ पाउडर डाले। इसको तब तक उबलने दे जब तक उस बर्तन में ग्रीन टी का पाउडर उबलकर बैठ ना जाए। उस ग्रीन टी के पानी को कप में निकाल लें। उसके बाद उसमें शहद मिलाएं और नींबू का रस निचोडें और तुरन्त इसका सेवन करें। ध्यान रहें ग्रीन टी में नीबूं निचोड़ने के बाद ज्यादा देर तक ना रहने दे और तुरन्त इसका सेवन करें। ठन्डा होने पर उसके गुण खत्म हो जाएगे।

अदरक वाली ग्रीन टी बनाना

सामग्री –

1 कप पानी

ग्रीन टी की 4 से 5 पत्तियां

अदरक या सूखे अदरक पाउडर

विधि– आप अपनी ज़रूरत के हिसाब से एक बर्तन में पानी चढ़ाये जितने कप आप हरी चाय बनाना चहाते हो। कुछ देर पानी को उबलने दे, उसके बाद उसमें सूखा अदरक का पाउडर या ताजा अदरक को कूट कर भी डाल सकते है। फिर उसमें ग्रीन टी की पत्तियां डालें। अदरक और चाय दोनों का उबलने के दौरान अच्छे से कस निकल जाए तब ग्रीन टी को छलनी से छान लें। अदरक वाली ग्रीन टी बनाकर पीना खांसी जुकाम के लिए काफी फायदेमंद साबित होती है।

टी बैग से ग्रीन टी बनाना

आजकल बाजारों में ग्रीन टी को सबसे जल्दी और आसान तरीके से बनाने के लिए ग्रीन टी के बैग उपलब्ध है जिसकी सहायता से कम समय में ग्रीन टी बनाकर पी सकते है।

विधि

एक बर्तन में एक कप पानी गर्म करें साथ ही आप अपने स्वादुनसार शक्कर भी डाल सकते है यदि आप डालना चाहते है। उसके बाद उस गर्म पानी को कप में भर ले। उसके बाद ग्रीन टी के बैग को उस कप में एक या दो मिनट के लिए छोड़े या फिर आप उसे हिलाकर जल्दी उस टी बैग का मिश्रण पानी में घोल सकते है। ग्रीन टी के पीने से स्वास्थ्य काफी हद तक स्वस्थ रहता है। ग्रीन टी पीने का एक सही समय भी तय होना चाहिए, वरना ये नुकसानदेह हो सकता है. ग्रीन टी में कैफीन और टेनिन्स पाए जाते हैं, जो गैस्ट्रिक जूस को डाइल्यूट करके पेट को नुकसान पहुंचा सकते हैं. यदि आपको ग्रीन टी से सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करनी हो, तो आप नीचे कमेंट के जरिये हमसे पूछ सकते हैं।