जयपुरिया लखनऊ को मिला भारत के 68वें सर्वश्रेष्ठ संस्थान का दर्जा

Slider 1
Slider 1
Slider 1
« »
13th April, 2019, Edited by Focus24 team

लखनऊ सिटी। कभी-कभी सफलता या अवसर हमारे बहुत नजदीक से आकर लौट जाती है लेकिन हम समझ नहीं पाते। कहने का अर्थ आपके सामने अवसर कई होते हैं जरूरत है सही समय पर उसको पहचानने की। कई बार ऐसा होता है जब हम सफल होने के मुहाने पर होते हैं तो अवसर नहीं मिलता और जब कभी अवसर मिलता है तो हम उसके काबिल नहीं होते। यह बातें और पैथोलॉजी प्रयोगशाला में थायरोकेयर के निर्माता डॉ. ए वेलुमनी ने कही हैं, जो शनिवार को जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट में आयोजित 23वें वार्षिक दीक्षांत समारोह में मुख्‍य अतिथि के रूप में पहुंचे थे।  

मौका था संस्‍थान के बैच 2017-19 के छात्रों के दीक्षांत समारोह का। इस दौरान  जयपुरिया ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के चेयरमैन शरद जैपुरिया, लखनऊ जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट की डायरेक्‍टर डॉ. कविता पाठक और सभी विषयों के फैकल्टी मेंबर्स की मौजूदगी में हुआ। इस वर्ष उत्तीर्ण हुए छात्रों को चेयरमैन शरद जैपुरिया और मुख्य अतिथि डॉ. ए वेलुमनी ने डिप्लोमा प्रदान किया।

डॉ. वेलुमनी ने दिया “फोर फेज फॉर्मूला”

समारोह में डॉ. ए वेलुमनी ने छात्रों से गरीबी का जश्न मनाने के लिए भी कहा। उन्‍होंने कहा कि वे जीवन का जश्न मनाएं क्योंकि यह उपलब्धि का मार्ग प्रशस्त करेगा। उन्होंने छात्रों को फ़ोकस, लर्न, ग्रो एंड एन्जॉय करने के लिए “फोर फेज फॉर्मूला” दिया ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि दुनिया उनके हाथों में है।

शरद जैपुरिया ने मुख्य अतिथि डॉ. ए वेलुमनी का स्वागत किया और उनकी उपस्थिति के लिए धन्यवाद व्यक्त किया। उन्‍होंने स्नातक करने वाले छात्रों, उनके माता-पिता का स्वागत करते हुए जयपुर के सकारात्मक लोकाचार को बनाए रखने के लिए बैच पास करने की सलाह दी। शरद जैपुरिया ने कहा कि जयपुरिया अपनी स्थापना के बाद से एक लंबा सफर तय कर चुका है और यह यात्रा छात्रों और शिक्षकों के समान योगदान के कारण संभव हुई। उन्होंने छात्रों को भविष्य में सफल होने के लिए अवसरों को हथियाने और अग्रिम प्रौद्योगिकियों के साथ तालमेल रखने का सुझाव दिया।

डॉ. कविता पाठक ने साझा किया संस्थान की वार्षिक रिपोर्ट पेश

संस्थान की वार्षिक रिपोर्ट पेश करते हुए डायरेक्‍टर डॉ. कविता पाठक ने साझा किया कि संस्थान के सभी पहलुओं में निरंतर सुधार देखा गया है। उन्होंने कहा कि यह बहुत गर्व की बात है कि हाल ही में जारी रैंकिंग सर्वेक्षण में एनएचआरडीएन ने जयपुरिया को उत्तर भारत में 11वें सर्वश्रेष्ठ बिजनेस स्कूल और पैन इंडिया में 34वीं रैंक दी गई है। उनकी रैंकिंग में मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा पदोन्नत नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रैंकिंग फ्रेमवर्क ने जयपुरिया लखनऊ को भारत के 68वें सर्वश्रेष्ठ संस्थान का दर्जा दिया है।